News Description
सही जानकारी देने पर लोगों ने परिषद के खिलाफ जताया रोष, धोखा देने का आरोप

गतसप्ताह मंगलवार को ड्रेन पर शुरू हुए अवैध कब्जे हटाने की कार्यवाही में जिन भवनों को तोड़ा गया था। वह ड्रेन के दोनों तरफ अवैध कब्जे हटाने की कार्यवाही नहीं थी। वह हाईकोर्ट के आदेश पर हटाए गए थे की ड्रेन पर अवैध कब्जों को हटाने के लिए। इसका खुलासा होते ही सोमवार को को नई बस्ती के लोगों ने जमकर रोष जताया। दोपहर तक लोग ड्रेन के दोनों तरफ लोग एकत्र हो गए जुलूस के रूप में वे नगर परिषद पहुंच गए। यहां उन्होंने नगर परिषद के अधिकारियों के खिलाफ एक घंटे तक नारेबाजी की। लोगों ने आरोप लगाया कि नगर परिषद के अधिकारियों ने शहर के लोगों के साथ धोखा दिया है। यदि वे सीधे रूप से लोगों को बता देते कि हाईकोर्ट से केस हारने के कारण ड्रेन के किनारे बने भवनों को तोड़ा जा रहा है तो उस दिन इतना विरोध नहीं होता इसी कारण अपना झूठ खुलने के डर से नप के एमई रमेश शर्मा अपनी टीम के साथ वहां से भाग गए। 

कार्रवाई में भेदभाव का आरोप, रिकाॅर्ड उपलब्ध कराने की मांग 

सोमवारकी दोपहर को काफी संख्या में महिला पुरुषों की भीड़ ने एकत्रित होकर अवैध कब्जों में कार्रवाई को लेकर विरोध में जमकर नारेबाजी की। कबीर बस्ती उसके आसपास के क्षेत्र के लोग पार्षद शशि अमरदीप भूरा की अगुवाई में एकत्रित हुए। प्रदर्शन में शामिल नरेंद्र, सतीश, के अलावा कई अन्य महिलाओं ने कहा कि नप अधिकारी सत्ता पक्ष समर्थित लोगों के अवैध कब्जों को हटाने की बजाय आम लोगों के आशियानों को उजाड़ने में लगे हुए हैं।