News Description
सीएम की घोषणाओं को पूरा करने के निर्देश

आफिसर्जबोर्ड की बैठक के दौरान कार्यवाहक डीसी ने मांगे अफसरों से सीएम घोषणाओं के बारे में जवाब मांगा। सीएम घोषणाओं पर अमल करने के निर्देश दिए। इस दौरान लिंग अनुपात के बारे में भी चर्चा की गई। झज्जर जिला में इस वर्ष जुलाई माह तक लिंगानुपात की दर 949 पर पहुंच चुकी है। जिले में 101 ऐसे गांव की पहचान की गई जिनमें लिंगानुपात की दर 1000 से अधिक है। 

कार्यवाहक डीसी ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम से संबंधित सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिला के जिन गांवों में अब हालत संतोषजनक नहीं उन गांवों पर विशेष फोकस किया जाए और अगर किसी प्रकार की अप्रिय जानकारी मिले तो उस पर तुरंत कार्रवाई की जाए। पीएनडीटी एमटीपी एक्ट का जिले में कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए। इस कार्य में कोताही बरतने वाले अधिकारियों कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने लिंगानुपात में सुधार के लिए संबंधित अधिकारियों जिलावासियों को बधाई भी दी। 

डीसी ने विभागों के कार्यों की ली जानकारी 

सीएमकी घोषणाओं से संबंधित कार्यों की प्रगति की समीक्षा करते हुए आमना तस्नीम ने निर्देश दिए कि किसी भी स्तर पर एस्टीमेट, टेंडर प्रक्रिया या निर्माण कार्य में बाधा आए तो तुरंत अपने एसडीएम के माध्यम से जिला प्रशासन के संज्ञान में मामला लाए ताकि समस्या का त्वरित समाधान किया जा सके। विकास कार्य एक निर्धारित समय सीमा के भीतर पूरे होने चाहिए। मुख्यमंत्री की घोषणाओं से संबंधित कार्यों की उन्होंने एक-एक कर सभी विभागों से जानकारी ली। 

कार्यवाहकडीसी ने जिला में कार्यरत सभी अटल सेवा केंद्रों की स्थिति के बारे में भी जानकारी ली और जिन गांवों में अब तक अटल सेवा केंद्र नहीं खुले है वहां पर भी इन्हें खोलने के निर्देश दिए। बैठक में पर्यावरण संरक्षण को लेकर हुई चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि जिले के पौधरोपण का जितना टारगेट मिला है उससे अधिक पौधों की रोपाई होनी चाहिए साथ ही उनकी देखभाल का तंत्र भी विकसित किया जाए। उन्होंने स्थानीय निकाय, राजस्व, स्ट्रे कैटल, ओडीएफ (अर्बन), बिजली-जलापूर्ति, बाढ़ राहत, जल निकासी आदि से संबंधित कार्यों की भी बैठक के दौरान समीक्षा की। इस अवसर पर एसडीएम बेरी संजय राय, एसडीएम बहादुरगढ़-बादली जगनिवास सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।