News Description
सारे जग का है जो रखवाला, मेरा शंभू बड़ा भोला-भाला.

लायलपुर महापंचायत धर्मशाला में आयोजित शिवकथा में कथावाचक पंडित राजेंद्र पराशर ने भगवान शिव के आराध्य देव श्रीराम, माता सती की शिवोपासना, ब्रह्मा-दक्ष संवाद और महर्षि नारद द्वारा सती को पंचाक्षर मंत्र ओम नम: शिवाय की महिमा बताना इत्यादि प्रसंग भजनों सहित विस्तार से सुनाए। कार्यक्रम में नगर परिषद थानेसर की अध्यक्षा उमा सुधा ने बतौर मुख्यातिथि दीप प्रज्जवलित किया। कथा के आयोजक पार्षद बिमला गाबा, विजय गाबा, ¨प्रस गाबा व चरणजीत गाबा ने मुख्यातिथि का स्वागत करके स्मृति चिन्ह प्रदान किया।

कथावाचक राजेंद्र पराशर द्वारा सुनाए गए भजन सारे जग का है, जो रखवाला, मेरा शंभू बड़ा भोला-भाला पर श्रद्धालु मंत्रमुग्ध होकर झूम उठे। शिवकथा के रोचक प्रसंग सुनाते हुए पराशर ने कहा कि आदिदेव भगवान शिव भगवान श्रीराम की उपासना करते रहते हैं। भगवान शिव और श्रीराम परस्पर एक-दूसरे के उपास्यदेव हैं। शंकर ने माता पार्वती के आग्रह पर सुंदर योग आने पर श्रीराम कथा कैलाश पर्वत पर सुनाई। इस प्रकार सारे जगत में सुख और आनंद देने वाली भगवान श्रीराम की लीलाएं और कथाएं व्याप्त हो गई। जो श्रद्धालु भक्ति पूर्वक इन कथाओं को सुनता है उनके सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। शिव आरती में पंडित कमल भारद्वाज, विजय अत्री, विरेंद्र गोस्वामी, सूरज वर्मा, अनिल पोपली, परमानंद गाबा, पंकज खुराना, बुद्धि प्रकाश वर्मा, श्याम पराशर, लेखराज, जगन्नाथ, लक्ष्य, मोहित पोपली, आशा रानी, वीना रानी, कमलेश गाबा व मिनाक्षी मौजूद रहे।