News Description
गांव से गूगल तक पहुंचा हर्षित, अमेरिका में करेगा ग्राफिक डिजाइनिंग

गांव मथाना के महज 12वीं पास हर्षित के बनाए ग्राफिक्स गूगल कंपनी को इतने पसंद आए कि उसे स्कॉलरशिप के लिए चुन लिया। कंपनी की ओर से हर्षित अब अमेरिका के स्टडी सेंटर में पढ़ेगा। इस दौरान उसे चार लाख रुपये महीना छात्रवृत्ति भी मिलेगी। कोर्स पूरा करने के बाद उसे सालाना डेढ़ करोड़ का पैकेज मिलेगा।

हर्षित ने गांव में ही निजी स्कूल में ही दसवीं तक की शिक्षा प्राप्त की थी। चंडीगढ़ में आइलेट्स की तैयारी के लिए वह गांव से प्रतिदिन चंडीगढ़ जाता था। उसके पिता डॉ. राजेंद्र शर्मा पंजाब के पटियाला जिले के पातड़ां में निजी बीएड कॉलेज में प्राचार्य हैं। मां भारती शर्मा प्राइवेट स्कूल में शिक्षिका हैं।