News Description
ओवरलोड वाहनों से टूटी सड़क, लोग परेशान

क्षेत्रमें ओवरलोड वाहनों की समस्या तेजी से बढ़ रही है। इसके कारण जहां क्षेत्र में हादसे हो रहे हैं। वहीं इनके कारण सड़कों को भी नुकसान पहुंच रहा है। इस मामले में लगातार शिकायतों के बावजूद प्रशासन की ओर से कार्रवाई नहीं की जा रही है। 

बता दें कि पिछले सप्ताह दुजाना के कॉलेज के पास एक ओवरलोड ट्रक का संतुलन खराब होने से हादसा हो गया था। शनिवार की रात दुजाना चौक पर रोड़ियों से भरे ट्रक से एक वाहन टकरा गया, जिसके कारण चौक पर अव्यवस्था फैल गई। लोगों की शिकायत है कि बेरी से दुजाना और दुजाना से छारा के बीच भारी संख्या में ओवर लोड ट्रक चलते हैं। पहले इस प्रकार के वाहन केवल रात के समय ही क्षेत्र से गुजरते थे, लेकिन अब दिन में ही दौड़ने लगे हैं। 

टूटीसड़क से हादसे का डर 

रविवारको दुजाना से छारा मार्ग के बीच काफी ओवर लोड वाहन एक कतार से निकलते हुए दिखाई दिए। लोगों का कहना है कि इस प्रकार के अधिकांश वाहन सांपला से होते हुए सोनीपत की ओर निकलते हैं। छारा गांव के रहने वाले सुनील रणबीर सिंह का कहना है कि छारा-दुजाना मार्ग पर इन भारी वाहनों के कारण सड़क भी क्षतिग्रस्त हो गई है। कई जगह भारी गड्ढे बने हैं। इनका कहना है इस प्रकार की शिकायत छारा से बहादुरगढ़ के मार्ग के कई गांवों के बीच बनी है। ओवर लोड वाहनों से रोड के टूटने के बाद अब इनमें बरसात के अंदर पानी जाम हो जाता है, जिसके कारण हादसों की संभावना कहीं अधिक बनी है। 

ट्रांसपोर्ट यूनियन के प्रधान रविंद्र का कहना है कि प्रशासन की ओर से जब कुछ महीने पहले सख्ती की गई थी, तब ओवरलोड वाहन चोरी छिपे अप्रोच रोड से निकलते थे। लेकिन अब इनको बड़ी संख्या में छुछकवास साल्हावास क्षेत्र में देखा जा सकता है। 

इनका कहना है कि प्रशासन को इन मामलों के बारे में शिकायत की जाती है। लेकिन कार्रवाई नहीं की जाती है। जिसके कारण अब केंद्र सरकार को पत्र लिखा गया है। इनकी प्रशासन से गुहार है कि ओवर लोड वाहनों पर नकल कसने पर दूसरे वाहन चालकों को घाटा हो रहा है। जिसके कारण अब वे भी ओवर लोड करने पर मजबूर हो रहे हैं।