# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
मांदकौल निवासियों में चल रही है रस्साकशी

     सदर थाना क्षेत्र के गांव मांदकौल में 20 जुलाई को हुई दुर्गादत्त की हत्या के मामले में गांव में रस्साकशी का माहोल बना हुआ है। पीड़ित पक्ष के लोग जहां गौचारण की जमीन खाली कराने के विवाद व भ्रष्टाचार की शिकायत की परिणति में हत्या का आरोप लगा रहे हैं तो वहीं आरोपी पक्ष (निलंबित सरपंच राजेंद्र उर्फ लीलू) के लोग इसे गांव की राजनीति करार दे रहे हैं तथा सरपंच चुनाव में हुई पीड़ित पक्ष की हार से जोड़ रहे हैं।

       मामले में दोनों पक्ष पुलिस अधीक्षक सुलोचना गजराज से मिल चुके हैं। शुक्रवार को भी मृतक दुर्गादत्त के पक्ष में गांव के लोग लघु सचिवालय में पहुंचे तथा यहां प्रदर्शन कर नारेबाजी की व एसपी को ज्ञापन भी सौंपा।

       15 जुलाई को जिला उपायुक्त ने गांव के ललित कौशिक व वासदेव की शिकायत के आधार पर गांव के सरपंच राजेंद्र उर्फ लीलू को निलंबित कर दिया था। मृतक के भाई की शिकायत पर पुलिस ने 12 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था, जिनमें से चार लोगों को जेल भेजा जा चुका है। हत्या के मामले में तीन वकीलों का नाम आने पर बार एसोसिएशन भी तीन दिन की हड़ताल कर चुकी है