News Description
सकारात्मक सोच ही उज्वल भविष्य का आधार : प्रो. कुलभूषण

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के वाणिज्य विभाग के वरिष्ठ प्रोफेसर कुलभूषण चंदेल ने किसी भी व्यवसाय, उपक्रम व कार्य में सफलता के लिए ज्ञान, कौशल व सकारात्मक सोच इन तीन गुणों का होना जरूरी है। ये तीनों गुण व्यक्ति को अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर करते हुए उज्जवल भविष्य की ओर पहुंचाने में सक्षम बनाते हैं। इसलिए युवाओं को

जीवन में सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ना चाहिए। डॉ. चंदेल कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के प्रबंधन अध्ययन संस्थान में शुक्रवार आयोजित व्याख्यान में बोल रहे थे। प्रो. चंदेल ने सकारात्मक सोच के अर्थ, महत्व एवं विकास के प्रशिक्षण पर बल दिया। उन्होंने कहा कि युवाओं को लगातार कठिन मेहनत करनी होगी तभी जीवन में आगे बढ़ा सकता है। इसके अलावा दूसरों को नुकसान करने की बात अगर दिमाग में ज्यादा समय रखी जाती है तो वह हमारी ऊर्जा को नष्ट करती है। जिसके कारण अपने सकारात्मक कार्यों की ओर ध्यान नहीं रहता और जीवन में नुकसान के अलावा कुछ हासिल नहीं हो पाता। इस मौके पर संस्थान के निदेशक प्रो. बीएस बोडला ने रिसोर्स पर्सन प्रो. चंदेल का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए सकारात्मक सोच पर अपने विचार छात्रों के साथ सांझा किए। संस्थान के प्रो. रंजन शर्मा ने उनका आभार व्यक्त किया। इस मौके पर संस्थान के सभी छात्रों सहित शिक्षक प्रो. जेके चंदेल, प्रो. अनिल कुमार, मोनिका, अनिता, दिशा, वंदना, 

ADVERTISING