News Description
जमीन उपलब्ध कराने वाले सभी गांवों में बनवाई जाएंगी नंदीशालाएं : एडीसी

 डीआरडीए में बृहस्पतिवार को विकास कार्यो से जुड़े अधिकारियों की एडीसी धीरेंद्र खटगटा की अध्यक्षता में बैठक हुई। उसमें उन्होंने बताया कि 15 अगस्त तक लावारिस पशुमुक्त जिला बनाने के लिए प्रशासन ने प्रयास तेज कर दिए हैं। जिन ग्राम पंचायतों ने जमीन उपलब्ध करा दी है, उन गांवों में जल्द ही नंदीशाला बनाने का काम शुरू किया जाएगा, जो 15 अगस्त तक बनकर तैयार हो जाएंगी और सभी लावारिस पशुओं को उनमें पहुंचा दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि नंदीशालाओं में लावारिस पशुओं के लिए पानी तथा चारे का प्रबंध ग्राम पंचायतों के सहयोग से कराया जाएगा, ताकि यह योजना लंबे समय तक काम करती रहे। नंदीशालाओं के निर्माण के लिए एक विशेष नक्शा तैयार किया गया है, अगर ग्राम पंचायतें गांवों में बढि़या नंदीशाला का निर्माण कराना चाहें, तो वे पंचायती फंड से धनराशि उपलब्ध करा सकते हैं। उन्होंने कहा कि शहरों की तर्ज पर गांवों में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए भी जिला प्रशासन कार्रवाई जल्द शुरू करेगा। ब्लाक कोआर्डिनेटर, जेई तथा बीडीपीओ को निर्देश दिए गए कि वे अपने खंड से दो-दो गांवों का चुनाव कर तुरंत रिपोर्ट भिजवाएं। इन गांवों में सभी गलियों को पक्का कराना, स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराना, खाली पड़ी पंचायती जमीनों में पार्क विकसित कराने समेत कई कार्य कराए जाएंगे। भविष्य में इन गांवों में वाईफाई की सुविधा भी उपलब्ध कराने के प्रयास किए जाएंगे।