News Description
लड़कियों के बयान दर्ज, बताया कहां-कहां होती थी छेड़खानी

सेक्टर-8में चल रही अपोलो सर्कस से बरामद की गई आठों लड़कियों ने सीडब्ल्यूसी टीम को बयान दिए कि उनके साथ छेड़खानी होती थी। उस वक्त लड़कियों के परिजन भी मौजूद थे। लड़कियों ने बताया कि सर्कस में उनसे मारपीट होती थी और साथ ही रस्सी से भी उन्हें पीटा जाता था। उन्होंने आरोप लगाया कि सर्कस मालिक का भाई शो के दौरान और बाद में आते-जाते छेड़खानी के साथ-साथ फब्तियां भी कसता था।
 
पंचकूला के आशियाना में लड़कियों ने डिस्ट्रिक चाइल्ड प्रोटेक्शन यूनिट की काउंसलर पायल चुघ, सीडब्ल्यूसी सदस्य गुरुदेव पंचकूला टीम को बताया कि शौचालय टीन की चादरों से बनाया गया था। उसमें छेद थे। सोने के लिए भी उन्हें उचित स्थान नहीं दिया जाता था। बारिश के दौरान पानी टपकता था और वे भीगती रहती थीं। अगर कोई लड़की सर्कस से बाहर निकलने की कोशिश करती तो उसे पीटा जाता था।
 
^लड़कियों ने परिजनों की मौजूदगी में बयान दर्ज कराए हैं। लड़कियों ने बताया कि उनके साथ छेड़छाड़ और मारपीट होती थी और तो और उन्हें बाहर भी नहीं निकलने दिया जाता था। अब आठों की उम्र की जांच के लिए उन्हें उनके परिजनों से भी मिलने नहीं दिया जाता था। लड़कियों की उम्र की जांच के लिए ओसिफिकेशन टेस्ट 3 अगस्त को होगा।