News Description
सरपंच पर लगाया धोखाधड़ी का आरोप,सीएम विंडों पर दी शिकायत

 दामला गांव के लोगों ने सरपंच पर ग्राम पंचायत की जमीन को हड़पने व उस पर गऊशाला का निर्माण कर लेने को लेकर सीएम विंडों पर शिकायत दी है। इस शिकायत में उन्होंने सरपंच पर धोखे में रखकर गऊशाला के लिए जमीन का आवंटन करने का आरोप लगाया है। 

      शिकायत के मुताबिक सरपंच द्वारा धोखे से 18 कनाल 18 मरले पंचायती जमीन को 33 वर्ष के लिए लीज पर दे दिया गया। जिसे गांव के एक व्यक्ति के नाम करवाया गया। बाद में वर्ष 1992 में विनोद गुप्ता की ओर से हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई। जिस पर अदालत ने 30 मई 2013 को कब्जा धारक के खिलाफ अपना फैसला सुनाया था। उसके बाद कब्जाधारक ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली। लेकिन वहां भी उसकी अर्जी को खारिज कर दिया गया।

  सीएम विंडों  पर शिकायत देने आए वेद राज व विरेंद्र कुमार ने बताया कि अब कब्जाधारक ने जमीन खाली करने की बजाए अपने बेटे के नाम पर वहां गऊशाला का निर्माण कर लिया है। इस जमीन को सरपंच ने दोबारा 15 हजार रुपये की दर से 33 वर्ष के लिए लीज पर दे दिया है। जबकि इस जमीन की कीमत करोडों रुपये की है। उन्होंने बताया इस जमीन को छुडवाने के लिए गांव वासियों ने वर्ष 2014-डीडीपीओ, वर्ष 2014 में उपायुक्त कोर्ट में बेदखली के लिए डीडीपीओ की कोर्ट में केस को डाला। जिस पर दोनों कोर्ट नेबेदखली के आदेश पारित किए थे। लेकिन फिर भी कब्जाधारक इस जमीन को खाली नहीं कर रहा है।