News Description
सीआइए पुलिस का अस्पताल में छापा

सीआइए स्टाफ द्वारा मंगलवार देर शाम को बुढ़लाडा रोड पर नए बस स्टैंड के सामने एक निजी अस्पताल में छापामार कार्रवाई की गई। सीआइए स्टाफ को सूचना मिली थी की उक्त अस्पताल में डॉक्टर बिना लाईसेंस व बिना डिग्री के मरीजों का इलाज कर रहा है। कार्रवाई के दौरान अस्पताल में उपस्थित डॉक्टर ने स्टाफ की टीम को अपनी डिग्री के दस्तावेज दिखाए गए। जिसके बाद सीआइए स्टाफ ने पूरे मामले की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दी और मामले पर स्वास्थ्य विभाग की राय मांगी। जानकारी के अनुसार सीआइए टीम को गुप्त सूचना मिली थी कि रतिया बुढ़लाडा रोड नए पर बस स्टैंड के सामने फालोन हेल्थ केयर सेंटर पर बिना लाइंसेंस के डॉक्टर द्वारा मरीजों का ईलाज किया जा रहा है। जिस पर सीआईए के इंचार्ज कृष्ण कुमार, मेजर, राजेश कुमार, कुलदीप ¨सह आदि की टीम ने अस्पताल में छापामार कार्रवाई की। छापे के दौरान डॉक्टर मरीजों को देख रहे थे। पुलिस टीम ने हेल्थ केयर सेंटर के संचालक से जब पूछताछ की तो डॉक्टर अमित जून ने टीम को बताया कि वह एमबीबीएस डिग्री धारक है और अस्पताल में बिना लाइसेंस के कोई कार्य नहीं किया जा रहा। जिसके बाद पुलिस टीम ने इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग के सिविल सर्जन व एसएसओ को दे दी। सूचना मिलते ही डिप्टी सिविल सर्जन गिरीश कुमार व एसएमओ वीके जैन मौके पर पहुंचे और दस्तावेजों की जांच की। जांच के बाद दस्तावेजों की प्रति स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अपने साथ ले गए। उक्त क्लीनिक पर डॉक्टरों द्वारा नशा छुड़वाने की दवाईयां भी दी जाती है। सीआईए अधिकारी कृष्ण कुमार का कहना है की पूरे मामले पर कार्रवाई के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से राय मांगी गई है तथा विभाग के अधिकारियों के निर्देशों पर ही आगामी कार्रवाई की जाएगी।

एसएमओ वीके जैन से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जब विभाग की टीम जांच के लिए गई तो वहां पर एमबीबीएस डिग्री धारक मरीजों की जांच कर रहा था। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने चिकित्सक की डिग्री व अस्पताल के दस्तावेज जांच के लिए उच्चाधिकारियों को भेज दिए हैं और जैसे उच्चाधिकारियों के निर्देश होंगे वैसे ही आगामी कार्रवाई की जाएगी।