News Description
सरोकार: सुशिक्षित समाज: कीचड़ में कमल खिलाने में जुटे चेतन

साइबर सिटी को हाईवे से गुजरते हुए बाहर से देखें तो इसकी बुलंद इमारतों की स्काईलाइन किसी विकसित देश के बड़े शहर सा अहसास देती हैं। यहां के विश्वस्तरीय स्कूलों में बेहतरीन शिक्षा दी जाती है और इनके बच्चे विदेशों में भी नाम कमाते हैं। यह विकास की लौ से जगमगा रहे शहर का एक हिस्सा है। वहीं, दूसरे हिस्से स्लम और बस्तियों में ऐसे लोग रहते हैं जिनकी न्यूनतम जरूरतें भी पूरी नहीं हो पाती। मेहनत मजदूरी करके दो वक्त की रोटी के जुगाड़ में लगे लोग, शहर की समस्याओं से जूझते रहते हैं। शिक्षा की रोशनी तो इस वर्ग तक पहुंच ही नहीं पाती। दो हिस्सों में बंटे इस शहर के कमजोर तबके के लिए कुछ करना तो क्या, लोग सोच भी नहीं पाते। इन वंचित वर्ग के लोगों के लिए मसीहा का काम कर रहे हैं शहर निवासी चेतन कपूर। चेतन इन्हें न केवल शिक्षा मुहैया करवा रहे हैं बल्कि उन लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं जो इसी समुदाय के हैं। चेतन इस वर्ग के बच्चों को शिक्षा के लिए प्रेरित करते हैं व उन्हें शहर के बेहतरीन स्कूलों से रूबरू भी कराते हैं।

हेरिटेज व शिक्षांतर जैसे बड़े स्कूलों में हर साल पंद्रह दिन तक पढ़ाने से लेकर वहां की सुविधाएं भी इन बच्चों को मुहैया करवाई जाती हैं। इससे बच्चों में पढ़-लिखकर कुछ करने की ललक जागती है। इसके अलावा बड़े बड़े स्कूलों के विद्यार्थी खेलों से लेकर अन्य प्रशिक्षण देते हैं। वे बच्चों को प्रारंभिक शिक्षा देकर उन्हें इस लायक बनाना चाहते हैं, ताकि बड़े स्कूलों में ईडब्ल्यूएस कैटेगरी में शिक्षा ग्रहण करने लायक बन जाएं।