News Description
पार्काें में हरियाली लाने का काम हुआ तेज

लंबे समय से रख-रखाव के अभाव में बदहाल पड़े नगर परिषद के अधीन आने वाले कई पार्को के दिन बहुरने वाले है। पार्को में सैर-सपार्ट के लिए आने वाले लोगों को साफ-स्वच्छ वातावरण मिल सके और हरियाली का भी उन्हे फायदा पहुच सके इसको लेकर इस दिशा में काम तेज हो गया है। यह कहना है नगर परिषद के पूर्व चेयरमैन रवि खत्री का।

उन्होंने कहा कि नगर परिषद का नया बोर्ड बनने के बाद लंबे समय से बदहाल पड़े पार्को की सूरत बदलने के लिए आवाज उठी। नप चेयरपर्सन शीला राठी के समक्ष कई पार्षदों ने पार्को की बदहाली को लेकर आवाज उठाई थी। जिस पर चेयरपर्सन ने पार्को की समस्याओं के समाधान के लिए ठोस कदम उठाए है। खत्री ने कहा कि काग्रेस शासनकाल के दौरान 12 पार्को की कायाकल्प की गई थी लेकिन अब काफी दिनों से पार्को के रख-रखाव को लेकर प्रशासन की तरफ से कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा था। जिससे पार्क बदहाल पड़े हुए थे और उनमें लगी घास तक गायब हो गई थी। यही नहीं पार्को में लगी अन्य चीजें भी बदहाल ही थी। जिसके बाद अब नगर परिषद बोर्ड की तरफ से फिर से पार्को की कायाकल्प को लेकर सार्थक कदम उठाए गए है जो कि एक सराहनीय कार्य है। इससे सभी को फायदा पहुचेगा और लोगों को पार्को के बेहतर रख-रखाव के चलते उन्हे उचित स्वास्थ्य लाभ भी मिलेगा। पूर्व चेयरमैन ने कहा कि काग्रेस शासनकाल के दौरान रेलवे लाइनों के साथ काफी बड़े क्षेत्र में पहला बड़ा पार्क बनाया गया था। लेकिन इसमें लंबे समय तक कोई सुध न लिए जाने के कारण यह बदहाल हो गया था क्योंकि सरकारी तौर पर इसकी कोई देखरेख नहीं हो रही थी। स्थानीय लोग ही मिलकर पार्क को साफ-सुथरा बनाए रखने व इसमें हरियाली को बढ़ावा देने में लगे रहते थे। लेकिन उसके बाद भी पार्क में लगी घास की स्थिति काफी खराब होती गई। लेकिन अब नगर परिषद में इस पार्क के सुधारीकरण को लेकर फिर से आवाज उठाई गई। खत्री ने बताया कि लाइनपार के इस पार्क पर 50 लाख रूपए खर्च होंगे। इसमें जहा-जहा से घास गायब है वह फिर से लगाई जाएगी और पार्क में झरने के अलावा अन्य चीजें भी लगवाई जाएगी।