News Description
मलिक को महापंचायत में देना होगा चंदे का हिसाब:

अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के चेयरमैन भरत ¨सह बैनीवाल व जिला प्रधान जोगेंद्र ¨सह ने कहा कि 23 जुलाई को हनुमान वाटिका में जाट समाज द्वारा महापंचायत बुलाई गई है। उसी दिन यशपाल मलिक भी अनाज मंडी में आ रहे हैं। उन्हें हनुमान वाटिका की महापंचायत में भी बुलाया जाएगा और उनसे चंदे के पैसों का हिसाब किताब लिया जाएगा। यशपाल मलिक अगर महापंचायत में नहीं पहुंचे तो समाज उनके खिलाफ कोई भी बड़ा फैसला ले सकता है। वे अंबाला रोड स्थित होटल में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

यशपाल मलिक देवबन कैंची चौंक पर धरने पर जमा हुए पैसों का गबन करने वाले बलवान कोटडा, प्रवीन किच्छाना व मा. अजमेर को बचाने में लगे हुए हैं। इसी बात को लेकर वे अनाज मंडी में पहुंच रहे हैं। उनका यहां पहुंचने का मकसद चंदा विवाद में जांच कर रही पुलिस जांच को प्रभावित करना है। वे आरोपियों को बचाना चाहते हैं, जो कि जाट समाज बिल्कुल भी सहन नहीं करेगा।

पैसों का गबन करने वाले आरोपियों को जेल में पहुंचाया जाएगा ताकि आगे कोई भी ऐसा ना कर सके। जो पैसा यशपाल मलिक के पास जाट समाज का जमा है वे उससे शिक्षा के लिए को¨चग सेंटर खोलने की बात कर रहे हैं, लेकिन समाज उन्हें ऐसा नहीं करने देगा। सारा पैसा आरक्षण के दौरान मारे गए लोगों व जेल में बंद युवाओं के लिए है।