News Description
मौत से 15 मिनट पहले बहन को कहा, जल्द पहुंच जाऊंगा मंदिर

 सुबह तक रतिया के मंदिर में पहुंच जाऊंगा और तुम परिवार सहित वहीं पर मिलना। ये ¨रकू के आखिरी शब्द थे जब उसने मौत से 15 मिनट पहले अपनी बड़ी बहन अंजू से कहे थे। करीब एक घंटे बाद परिजनों को मंदिर पहुंचना था। सुबह तक रतिया के मंदिर में पहुंच जाऊंगा और तुम परिवार सहित वहीं पर मिलनादोनों बहनें अपने भाई के बिछड़ने के गम में डूबी थी।

दरअसल 15 जुलाई को ¨रकू अपने दो दोस्तों के साथ हरिद्वार से कांवड़ लेने गया था। परिवार की सुख समृद्धि के लिए परिवार से विदा लेकर वह रवाना हुआ था। पिता बनवारी लाल ने बेटे को आशीर्वाद देते हुए कहा था कि तुम्हारी मनोकामना पूरी हो। लेकिन उसे क्या पता था कि वह अपने बेटे को अंतिम बार आशीर्वाद दे रहा है।

रकू गरीब परिवार से दो बहनों का इकलौता भाई था। उसकी बड़ी बहन अंजू की शादी हो चुकी है जबकि छोटी बहन पूनम अभी पढ़ाई कर रही है। जबकि पिता बनवारी लाल रतिया में ट्रंक बनाने के लिए मजदूरी करता है। ¨रकू शहर में ही चश्में की दुकान में कार्य करता था। दोनों बाप बेटी की कमाई से ही घर का खर्च चल रहा था।