News Description
गोशाला के निर्माण में 25 लाख का मिट्टी घोटाला

जिले की सड़कों काे बेसहारा गाेवंश से मुक्त करने के लिए एक ओर प्रशासन नई गोशालाएं व गो-गृह बनाने की कवायद तेज कर रहा है तो दूसरी ओर नगर निगम की एकमात्र गोशाला के निर्माण में बड़ा घपला सामने आया है।
      गोभक्त और जीरो टोलरेंस का दावा करने वाली भाजपा के राज में पहरावर गोशाला के निर्माण के दौरान मिट्टी भरत में ही लगभग 25 लाख रुपए का गोलमाल किया गया है। तीन एक्सईएन की टीम बनाकर निर्माण कार्य का सर्वे कराकर इस गड़बड़ी का खुलासा किया गया। इसके बावजूद सात माह से नगर निगम में यह जांच रिपोर्ट दबी पड़ी है। अारोपी अफसरों व ठेकेदार की तो जवाबदेही तय नहीं की गई, लेकिन गोशाला का काम जरूर बंद कर दिया गया। सात माह से गोशाला का निर्माण ठप पड़ा है।
        जांच अधिकारियों ने पहरावर गोशाला परिसर में गड्ढे खोदकर भरत करवाई गई मिट्टी की डेफ्थ चेक की और 7 जगह से सैंपल लिए और उसके बाद प्लाट की लंबाई, चौड़ाई व गहराई का आपस में गुणा करके मिट्टी भरत की मात्रा का अनुपात निकाला। इस लिहाज से मिट्टी भरत के मद में निगम की ओर से लगभग 63 लाख रुपए के किए गए भुगतान के सापेक्ष लगभग 25 लाख रुपए अधिक की पेमेंट बताई गई है।