News Description
कल रात्रि से आरंभ हो जाएगा महादेव का अभिषेक

शुक्रवार 21 जुलाई की रात्रि 9 बजकर 52 मिनट से शनिवार दोपहर 12 बजकर 10 तक भगवान शिव पर कांवड़ चढ़ेगा। मंदिरों में इसके लिए तैयारियां आरंभ हो गई हैं। कांवड़ियों के लिए मंदिरों में अलग से व्यवस्था की गई है। वहीं मंदिरों में भंडारों का भी आयोजन होगा। स्वाति ज्योतिष केंद्र के संचालक पंडित बलराज कौशिक का कहना है कि प्रदोष काल में शिव पूजन का विशेष महत्व है। प्रदोष काल 21 जुलाई को सायं सूर्यास्त के बाद 7 बजकर 24 मिनट से 8 बजकर 37 मिनट तक रहेगा। इस समय भगवान शंकर की पूजा का विशेष महत्व होगा। इस समय में शिव-पार्वती की पूजा की जाती है ओर लघु रूद्र महा रूद्र का पाठ और रूद्र