News Description
6 महीने पहले की थी लवमैरिज, लड़की के घरवालों ने लड़के को दी ऐसी सजा

 कॉलोनी में बीते शनिवार को पति-पत्नी पर हुए जानलेवा हमले के चार दिन बीत जाने के बाद घायल पति श्याम ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। श्याम ने बुधवार सुबह 4 बजे आखिरी सांस ली। इससे पहले मंगलवार रात 9 बजे उसका ऑपरेशन हुआ था। उसकी श्वास नली में घाव के कारण सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। वहीं पुलिस अभी तक एक भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। म और सपना की 6 महीने पहले लव मैरिज हुई थी। श्याम पंजाबी है, जबकि सपना एससी है। सपना के परिजनों को इस बात से एतराज था। 

- दोनों ने अपनी मर्जी से बिना घरवालों की रजामंदी के लव मैरिज कर ली। वे बैंक कॉलोनी में रह रहे थे। श्याम एक ढाबा चलाता है। 
- शनिवार दोपहर को वह घर आराम करने के लिए आया हुआ था। सपना ने बताया कि शनिवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे का समय था। श्याम और मैं खाना खाकर सोने की तैयारी में थे। बाहर का दरवाजा खुला था। तभी मेरे मामा, भाई साहिल और अन्य एक लड़का अंदर आए और मुझे आवाज दी। आवाज सुनकर मैं गई तो मामा ने मेरे सिर पर हाथ रखा और श्याम के बारे में पूछा। उस समय श्याम अंदर के कमरे में था। फिर हम सभी कमरे में चले गए।
- यहां बैठकर श्याम के साथ मेरे मामा बातचीत करने लगे जबकि मेरा भाई साहिल और दूसरा लड़का चुपचाप बैठे रहे। श्याम रविवार को हरिद्वार जाने वाला था। इसलिए मामा ने अधिकतर बातें हरिद्वार को लेकर ही की।
- करीब 15 मिनट तक बातचीत के बाद मैं चाय बनाने के लिए किचन में चली गई। चाय रखने के कुछ देर बाद मैं कमरे की ओर गई तो कमरे की लाइट व एक दरवाजा बंद था। अंधेरा होने के कारण मुझे कुछ दिखाई नहीं दिया।जैसे ही मैंने दरवाजा खोला तो श्याम खून से लथपथ था और साहिल ने श्याम का गला दबाया हुआ था।
श्याम को बचाने लगी तो सपना को भी लगे चाकू
- साहिल के साथ आया दूसरा लड़का उस पर वार कर रहा था और मामा के हाथ में पिस्तौल थी। मैं जोर से चीखी और मेरे भाई साहिल को मैंने जोर से धक्का मारा। 
- बीच बचाव के दौरान मुझे भी चाकू लगा। मेरी चीख-पुकार सुनकर मामा ने श्याम पर पिस्तौल से गोली चलाने की कोशिश की, लेकिन गोली चली नहीं। इसके बाद तीनों वहां से भाग गए।