# कारगिल विजय दिवस पर मोदी और जेटली ने दी श्रद्धांजलि         # मनाली में रोहतांग सुरंग के निकट फटा बादल, सड़क बही         # ब्रिटेन मे भारतीय मूल की मुस्लिम युवती की हत्या          # सहारा ग्रुपः सुप्रीम कोर्ट ने 1500 करोड़ रुपये जमा कराने का दिया आदेश         # सरकार ने खत्म किया भारत में ड्राइवरलैस कार का सपना         # भारत ने रिहा किए दस पाकिस्तानी कैदी         # पीएम ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे, 500 करोड़ राहत पैकेज का एेलान         # 9982 पर निफ्टी, सेंसेक्स में दिखी 45 अंकों की तेजी         # चीन के पीछे हटने पर ही डोकलाम से हटेगी भारत की सेना         # राष्ट्रपति ने नेहरू का जिक्र न किया तो भड़क गई कांग्रेस         दिल्ली कोर्ट ने शब्बीर शाह को 7 दिन की ED रिमांड पर भेजा          # श्रीलंका के खिलाफ दोहरे शतक से चूके शिखर         सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के लोग अपने विधायक से सबसे ज्यादा खुश-सर्वे रिपोर्ट        
News Description
अतिथि अध्यापकों ने सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन

शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव पीके दास द्वारा अतिथि अध्यापकों को सेवा मुक्त किए जाने के संबंध में दिए गए बयान से अध्यापकों में रोष बन गया। इसी रोष स्वरूप अतिथि अध्यापकों की एक बैठक देवी लाल पार्क चीका में बुलाई गई। ब्लाॅक प्रधान राम पाल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में सरकार द्वारा की जा रही जेबीटी अध्यापकों की नियुक्ति के चलते अतिथि अध्यापकों की नौकरी पर पर छाए खतरे को लेकर विचार विमर्श किया गया। अध्यापकों ने सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन कर नारेबाजी भी की। 

ब्लाॅक प्रधान रामपाल ने कहा कि मुख्य सचिव पीके दास ने बयान दिया है कि सरकार के पास नियमित अध्यापकों के लिए अधिक सीटें नहीं है। अब जेबीटी अध्यापकों की नियुक्ति के चलते जितनी भी सीटें भर जाएंगी, उतने ही अतिथि अध्यापकों को हटना होगा। यदि सरकार ने अतिथि अध्यापकों की सेवाएं समाप्त करने का प्रयास किया तो उन्हें मजबूरन सड़कों पर उतरना पड़ेगा। वे पिछले 11 वर्षों से विभाग में अपनी सेवाएं देते रहे हैं। 

कैथल में आज होगा प्रदर्शन 
 

जवाहरपार्काें में अतिथि अध्यापकों की बैठक हुई। जिला प्रधान सुभाष राविश ने बताया कि सभी अध्यापकों ने फैसला लिया कि वे शुक्रवार को प्रदर्शन करेंगे। बैठक में ब्लॉक प्रधान कृष्ण शर्मा, विकास राविश, ईशम करोड़ा, रोहताश, विनोद शर्मा, कृष्ण नैन, शमशेर नैन, देवेंद्र शर्मा, रमेश बालू, संजीव क्योड़क, मनफूल शिमला, नरेश खनौदा, संजीव भाना मौजूद रहे।