# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
अतिथि अध्यापकों ने सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन

शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव पीके दास द्वारा अतिथि अध्यापकों को सेवा मुक्त किए जाने के संबंध में दिए गए बयान से अध्यापकों में रोष बन गया। इसी रोष स्वरूप अतिथि अध्यापकों की एक बैठक देवी लाल पार्क चीका में बुलाई गई। ब्लाॅक प्रधान राम पाल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में सरकार द्वारा की जा रही जेबीटी अध्यापकों की नियुक्ति के चलते अतिथि अध्यापकों की नौकरी पर पर छाए खतरे को लेकर विचार विमर्श किया गया। अध्यापकों ने सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन कर नारेबाजी भी की। 

ब्लाॅक प्रधान रामपाल ने कहा कि मुख्य सचिव पीके दास ने बयान दिया है कि सरकार के पास नियमित अध्यापकों के लिए अधिक सीटें नहीं है। अब जेबीटी अध्यापकों की नियुक्ति के चलते जितनी भी सीटें भर जाएंगी, उतने ही अतिथि अध्यापकों को हटना होगा। यदि सरकार ने अतिथि अध्यापकों की सेवाएं समाप्त करने का प्रयास किया तो उन्हें मजबूरन सड़कों पर उतरना पड़ेगा। वे पिछले 11 वर्षों से विभाग में अपनी सेवाएं देते रहे हैं। 

कैथल में आज होगा प्रदर्शन 
 

जवाहरपार्काें में अतिथि अध्यापकों की बैठक हुई। जिला प्रधान सुभाष राविश ने बताया कि सभी अध्यापकों ने फैसला लिया कि वे शुक्रवार को प्रदर्शन करेंगे। बैठक में ब्लॉक प्रधान कृष्ण शर्मा, विकास राविश, ईशम करोड़ा, रोहताश, विनोद शर्मा, कृष्ण नैन, शमशेर नैन, देवेंद्र शर्मा, रमेश बालू, संजीव क्योड़क, मनफूल शिमला, नरेश खनौदा, संजीव भाना मौजूद रहे।