News Description
फोरलेन की भेंट चढ़ गए 19 हजार पेड़

बिगड़ता पर्यावरण देश ही नहीं विश्व भर में ¨चता का विषय बना हुआ है। इसे बचाने के लिए प्राय: प्रदेश में कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और करोड़ों रुपये जागरूकता के नाम पर खर्च कर लोगों को पौधरोपण के प्रति प्रेरित किया जाता है जबकि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक हर साल जिले में 20 हजार हरे-भरे पेड़ों को काट दिया जाता है। जिले में इस साल 1 अप्रैल तक 19 हजार 393 पेड़ों पर कुल्हाड़ी चली। इन्हें फोरलेन की भेंट चढ़ा दिया गया। भले ही इसकी एवज में हजारों पौधे लगाने का लक्ष्य भी रखा गया लेकिन उनमें से कितने बच पाएंगे। अंबाला रोड किया जा रहा चौड़ा हिसार-अंबाला रोड रेलवे रोड और न जाने