News Description
शादी का झांसा देकर गिरोह कर रहा ठगी, नहीं सुन रही पुलिस

उपमंडल में शादी की आड़ से ठग्गी के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इसी वर्ष कई मामले सामने चुके हैं। जिनमें ठग्गी का शिकार होने के बाद परिवार भी चुप्पी साध जाते हैं जबकि शिकायत करने वाले लाेगों का पुलिस साथ नहीं देती है। इससे गिरोह का जाल बढ़ता जा रहा है।
 
गांव जंडवाला बिश्नोईयां निवासी पीड़ित 28 वर्षीय राजू पुत्र पृथ्वी राज ने बताया कि वह खेत मजदूरी करता है। उसकी उम्र होने पर रिश्ता नहीं होने से खारिया के पुजारी ओमप्रकाश ने उसकी शादी कराने का वादा किया। जिसके बाद भोला सिंह निवासी गिदड़बाहा से मिलवाया आैर लड़की दिखाते हुए कहा कि इसके माता पिता होने के कारण वह अपनी माैसी के घर रहती है। इससे मौसी के घर शादी करेंगे लेकिन शादी का खर्चा भी उसे देना होगा। इससे उन्होंने नकदी दे दी और 4 अप्रेल को शादी तय कर ली तथा 3 अप्रैल की शाम को संदेश मिला कि लड़की की मौसी की भी मौत हो गई इससे सीधे गिदड़बाहा के एक गुरुद्वारे में आनंदकारज कर 4 अप्रैल को शादी पूरी कराई और बारात घर लौट आई। युवती उनके पास 2 दिन रही और तीसरे दिन मौसी के घर शोक जताने जाने का बहाना बनाकर वापस चली गई लेकिन उसके बाद लौटने की बजाय नंबर बंद कर दिया। बिचौलियों से मिले तो ओर रकम मांगने लगे कार्रवाई की धमकी दे रहे हैं। नवेली दुल्हन उनके घर से 2 तोले सोना, 15 तोले चांदी नकदी लेकर फरार हो गई। जिसकी शिकायत सदर डबवाली चौटाला पुलिस को दी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। पीड़ित ने पुलिस अधिकारियों के समक्ष पेश होकर गिरोह की जानकारी सबूत देते हुए बताया कि तीन राज्यों में फैला यह गिरोह कई शहर गांवों में जाकर विवाह कराने के बाद रुपये आभूषण लेकर फरार हो जाते हैं। जबकि रेप तलाक के केस की एवज में लाखों रुपये ओर ऐंठ लेते हैं। ऐसे में एसपी ने पीड़ित को कार्रवाई का भरोसा दिया लेकिन 3 माह बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। जबकि उक्त बिचौलियों का डबवाली में नेटवर्क दो ओर शादियां करा चुका है। लड़की ने नंबर बदल लिया लेकिन उसकी फेसबुक आईडी चल रही है वहीं भोला सिंह ओमप्रकाश का गिरोह से अब भी संपर्क है।