News Description
जब स्कूल का रास्ता ही गंदगीभरा तो विद्यार्थी कैसे पढ़ेंगे स्वच्छता का पाठ

हर विद्यार्थी के जीवन में उसकी प्राथमिक शिक्षा स्वच्छता के पाठ से शुरू होती है, और खासकर विद्यालयों में तो प्रार्थना सभा के दौरान ही विद्यार्थियों को इस संबंध में खुद स्वच्छ रहने और स्वच्छता बनाए रखने का संदेश विशेष तौर पर दिया जाता है। परंतु जब वही विद्यार्थी अपने विद्यालय व उसके रास्ते पर पड़ी गंदगी को देखते हैं तो ऐसी स्थिति उन्हें झकझोर कर रख देती है। अनाज मंडी स्थित दो अनाज मंडी स्थित राजकीय मॉडल संस्कृति विद्यालय व इसके साथ लगते प्राइमरी विद्यालय, जिसके समीप व उसके रास्ते पर ही हमेशा गंदगी का ढेर लगा रहता है। जिसके कारण विद्यालय के आसपास का वातावरण भी प्रदूषित बना रहता है और गंदगी के ढेर से आने वाली दुर्गंध विद्यार्थियों को तो परेशान कर ही रही है वहीं इसके इर्दगिर्द लोगों के लिए भी समस्या बन चुकी है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि रास्ते पर फैली गंदगी और कूड़े कचरे के ढेर को देखते है और विद्यालय में उन्हें स्वच्छता का पाठ पढ़ाया जाता है। वैसे भी बच्चों के लिए यह कहावत है कि वे जैसे दृश्यों को देखते है अपने जीवन में वैसे ही रास्तों पर चलते है। तो कहीं न कहीं प्रशासन व लोगों की लापरवाही ऐसे बच्चों पर दुष्प्रभाव भी डालने का काम कर रही है।

हो चुके हादसे, संभावना भी इंकार नहीं

विद्यालय के साथ ही अनाज मंडी का यह रोड यातायात की दृष्टि से काफी व्यस्त रहता है। लेकिन रोड पर लगे गंदगी व कूड़े के ढेर पर ही लावारिस पशु विचरण करते रहते हैं। ऐसी स्थिति में कई बार यातायात व्यवस्था बाधित होती रहती है और तो और कई बार विचरण कर रहे पशु आपस में लड़ना शुरू हो जाते हैं। जिससे यहां से गुजर रहे विद्यार्थियों के साथ हादसा होने की संभावना बनी रहती है। क्योंकि पूर्व में इसी तरह की बड़ी घटना इसी स्थान पर घटित हो चुकी है जिसमें एक विद्यार्थी की मौत हो गई थी।