# कारगिल विजय दिवस पर मोदी और जेटली ने दी श्रद्धांजलि         # मनाली में रोहतांग सुरंग के निकट फटा बादल, सड़क बही         # ब्रिटेन मे भारतीय मूल की मुस्लिम युवती की हत्या          # सहारा ग्रुपः सुप्रीम कोर्ट ने 1500 करोड़ रुपये जमा कराने का दिया आदेश         # सरकार ने खत्म किया भारत में ड्राइवरलैस कार का सपना         # भारत ने रिहा किए दस पाकिस्तानी कैदी         # पीएम ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे, 500 करोड़ राहत पैकेज का एेलान         # 9982 पर निफ्टी, सेंसेक्स में दिखी 45 अंकों की तेजी         # चीन के पीछे हटने पर ही डोकलाम से हटेगी भारत की सेना         # राष्ट्रपति ने नेहरू का जिक्र न किया तो भड़क गई कांग्रेस         दिल्ली कोर्ट ने शब्बीर शाह को 7 दिन की ED रिमांड पर भेजा          # श्रीलंका के खिलाफ दोहरे शतक से चूके शिखर         सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के लोग अपने विधायक से सबसे ज्यादा खुश-सर्वे रिपोर्ट        
News Description
रैली में किसान, मजदूर व व्यापारी वर्ग की आवाज होगी बुलंद : नरेश

संवाद सहयोगी, मंडी अटेली : पूर्व विधायक एवं कांग्रेस नेता नरेश यादव ने 22 जुलाई को अटेली की नई अनाज मंडी में होने वाली लाठी रैली के लिए गांवों में जनसंपर्क अभियान चलाकर रैली में पहुंचने का न्यौता दिया। गांव सिलारपुर, तिगरा, सागरपुर, खोड़ व अटेली कस्बा में जन सभाओं को संबोधित किया।

गांव खोड़ में जनसभा को संबोधित करते हुए नरेश यादव ने कहा कि रैली में किसान, मजूदर व व्यापारियों के हितों की आवाज बुलंद की जाएगी। ली में अनेक केन्द्रीय मंत्री पहुंच रहे हैं। रैली में लोगों के स्वागत के लिए आकाश से पुष्प वर्षा की जाएगी। उन्होंने कहा कि मासूम बच्ची के साथ अटेली में किस प्रकार जघन्य अपराध होता है, वहीं गांव खोड़ में बुजुर्ग महिला के साथ दुष्कर्म किया जाता है और अपराधी 20 दिन तक पता होते हुए खुले में घूमता रहता है। उच्च अधिकारी इस पर संज्ञान नहीं लेते हैं। कुएं पर सो रहे किसानों पर गोली चलाई जाती है और एक साल तक पुलिस अपराधियों की तलाश नहीं कर पाती है।

उन्होंने कहा कि किसानों से बीमा के नाम से खातों से रुपये उड़ा दिए जाते हैं। भाजपा सरकार में किसान, मजदूर व व्यापारी कोई भी वर्ग सुरक्षित नहीं है। पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने का काम किया जा रहा है। किसान कर्ज से दबे जा रहे हैं और सरकार कृषि यंत्रों पर टैक्स बढ़ा रही है। कृषि यंत्र व कीटनाशकों को महंगा कर दिया गया है