# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
डबल मर्डर कर घर में कैद हो गया था बिजनेसमैन, निकलते ही हुआ कत्ल

बुधवार को डबल मर्डर के आरोपी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस वारदात में उसका चचेरा भाई भी गोली लगने से घायल हो गया। दिनदहाड़े मारे गए सजायाफ्ता राकेश को जान का खतरा था। इसलिए उसने घर के अंदर-बाहर सीसीटीवी कैमरे लगा रखे थे। घर से बाहर भी महीने में दो-तीन बार ही जाता था। उसे पहले से ही खतरे का आभास था इसलिए 10 दिन पहले ही गांव से चचेरे भाई जसबीर को बुलाया था।बदमाशों का टारगेट पूरी तरह से राकेश ही था। इसलिए गोलियां मारने के बाद जब गाड़ी के शीशे टूटे तो बदमाशों ने गाड़ी के पास जाकर देखा और फिर राकेश को गोली मारी। जब राकेश स्टेयरिंग पर गिर गया तो एक गोली कमर में भी मारी।शहर के बहुचर्चित बाली पहलवान हत्याकांड का मुख्य आरोपी अमन नंदी था। अमन नंदी ने बाली पहलवान को तहसील कैंप में गोली मारी थी। उसके बाद अमन नंदी को राकेश श्योकंद ने तहसील कैंप जिम में गोली मार दी थी।अमन की हत्या में लोअर कोर्ट ने राकेश को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इसी केस में 5 साल जेल में रहा। 2013 में हाईकोर्ट से पैरोल पर बाहर आया था।