# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
अंबाला नगर निगम भंग करने के लिए सरकार राजी

अंबाला : अंबाला-पंचकूला पुलिस कमिश्नरी भंग होने के बाद अब अंबाला नगर निगम कभी भी भंग करने का एलान राज्य सरकार कर सकती है। हुड्डा सरकार के कार्यकाल में बनी निगम को भंग करने की सिफारिश स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने की थी। इसी सिफारिश पर राज्य सरकार ने हामी भर दी है लेकिन अब फैसला सार्वजनिक नहीं किया।

पिछली हुड्डा सरकार के कार्यकाल में बनी नगर निगम को विज गैरकानूनी करार दे चुके हैं। ट्विनसिटी में वार्डबंदी होने के बाद वार्डो की संख्या में होगा इजाफा।हुड्डा सरकार के कार्यकाल में दो बड़े फैसले को अनिल विज ने बदला लिया। विज की सिफारिश पर अंबाला को कमिश्नरी से अलग कर महज पंचकूला में पुलिस कमिश्नरी बना दी थी। निगम भंग न होने पर विज ने फिर से मुख्यमंत्री को रिमाइंडर भेजकर निगम को भंग करने की सिफारिश की थी।

विज का कहना है कि नगर निगम को हुड्डा सरकार के दौरान अवैधानिक तौर पर बनाया गया था। छावनी और शहर में दोनों ही जगह अधिकारियों की जरूरत है। ऐसे में निगम को भंग करके फिर से नगर परिषद बनाया जाए। एक्ट के मुताबिक जितनी जनसंख्या नगर निगम बनाने के लिए होनी चाहिए उतनी शहरी क्षेत्र की नहीं है। वैसे भी अंबाला छावनी और शहर ट्विनसिटी है। ऐसे में लोगों की सुविधा के लिए निगम की जगह परिषद बनाने के लिए सिफारिश की है।