# रक्षा मंत्रालय ने इजरायल के साथ रद्द की 500 मिलियन डॉलर की मिसाइल डील         # कालेधन पर भारत को जानकारी देंगे स्विस बैंक, पैनल की मंजूरी         # गुजरात चुनाव: कांग्रेस ने जारी की पहली लिस्ट, 77 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान         # दीपिका पादुकोण को जिंदा जलाने पर रखा 1 करोड़ का इनाम         # कश्मीर घाटी में लश्कर के शीर्ष नेतृत्व का सफाया: सेना         # आसमान छू रहे अंडों के दाम, चिकन के बराबर पहुंची कीमतें         # महाराष्ट्र: सड़क किनारे टॉयलेट करते पकड़े गए जल संरक्षण मंत्री राम शिंदे         # चीन में नए भारतीय राजदूत के रूप में आज कार्यभार ग्रहण करेंगे बंबावले         # ICJ चुनाव में भारत को रोकने के लिए ब्रिटेन ने चली गंदी चाल        
News Description
अंबाला नगर निगम भंग करने के लिए सरकार राजी

अंबाला : अंबाला-पंचकूला पुलिस कमिश्नरी भंग होने के बाद अब अंबाला नगर निगम कभी भी भंग करने का एलान राज्य सरकार कर सकती है। हुड्डा सरकार के कार्यकाल में बनी निगम को भंग करने की सिफारिश स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने की थी। इसी सिफारिश पर राज्य सरकार ने हामी भर दी है लेकिन अब फैसला सार्वजनिक नहीं किया।

पिछली हुड्डा सरकार के कार्यकाल में बनी नगर निगम को विज गैरकानूनी करार दे चुके हैं। ट्विनसिटी में वार्डबंदी होने के बाद वार्डो की संख्या में होगा इजाफा।हुड्डा सरकार के कार्यकाल में दो बड़े फैसले को अनिल विज ने बदला लिया। विज की सिफारिश पर अंबाला को कमिश्नरी से अलग कर महज पंचकूला में पुलिस कमिश्नरी बना दी थी। निगम भंग न होने पर विज ने फिर से मुख्यमंत्री को रिमाइंडर भेजकर निगम को भंग करने की सिफारिश की थी।

विज का कहना है कि नगर निगम को हुड्डा सरकार के दौरान अवैधानिक तौर पर बनाया गया था। छावनी और शहर में दोनों ही जगह अधिकारियों की जरूरत है। ऐसे में निगम को भंग करके फिर से नगर परिषद बनाया जाए। एक्ट के मुताबिक जितनी जनसंख्या नगर निगम बनाने के लिए होनी चाहिए उतनी शहरी क्षेत्र की नहीं है। वैसे भी अंबाला छावनी और शहर ट्विनसिटी है। ऐसे में लोगों की सुविधा के लिए निगम की जगह परिषद बनाने के लिए सिफारिश की है।