News Description
13.68 करोड़ रुपये की लागत से स्थापित होगा मछली हैचरी

हरियाणा सरकार ने जिला झज्जर में 13.68 करोड़ रुपये की लागत से एक हाईटैक और अत्याधुनिक सजावटी मछली हैचरी स्थापित करने का निर्णय लिया है। यह देश में अपनी तरह की पहली परियोजना होगी।

 कृषि एवं किसान कल्याण और मत्स्य मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि मत्स्य पालन के  लिए जिला झज्जर और चरखी दादरी में सेम प्रभावित लगभग 16,000 एकड़ भूमि विकसित करना भी प्रस्तावित किया गया है ताकि किसानों के लिए आय का एक नए स्रोत सृजित किया जा सके।

मंत्री ने कहा कि प्रदेश में 16 रीसक्र्युलेटिंग एक्वाकल्चर सिस्टम (आरएएस) इकाइयां स्थापित की जाएगी। मत्स्य पालकों द्वारा 50 लाख रुपये प्रति इकाई की लागत से 40 टन प्रति एकड़ मत्स्य उत्पादन किया जाएगा और इस पर मत्स्य विभाग 50 प्रतिशत अनुदान प्रदान करेगा। नए तालाबों की खुदाई एवं उनके सुधार और सेम एवं क्षारीय भूूमि के विकास के लिए लागू की गई केन्द्रीय प्रायोजित ‘ब्लू रिवॉल्यूशन स्कीम’ के अंतर्गत अनुदान राशि को 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 60 प्रतिशत कर दिया गया है।

धनखड़ ने कहा कि नेशनल ब्यूरो ऑफ फिश जेनेटिक रिसोर्सेज ने हरियाणा को  मत्स्य रोग-मुक्त राज्य घोषित किया है। हरियाणा वर्ष 2016-17 में 7200 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर प्रतिवर्ष और 2013-14 में 5800 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर प्रति वर्ष मत्स्य उत्पादन के साथ देश में दूसरे स्थान पर है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017-18 में मत्स्य उत्पादन को बढ़ाकर 10 हजार किलोग्राम प्रति हैक्टेयर प्रति वर्ष किया जाएगा।