# कारगिल विजय दिवस पर मोदी और जेटली ने दी श्रद्धांजलि         # मनाली में रोहतांग सुरंग के निकट फटा बादल, सड़क बही         # ब्रिटेन मे भारतीय मूल की मुस्लिम युवती की हत्या          # सहारा ग्रुपः सुप्रीम कोर्ट ने 1500 करोड़ रुपये जमा कराने का दिया आदेश         # सरकार ने खत्म किया भारत में ड्राइवरलैस कार का सपना         # भारत ने रिहा किए दस पाकिस्तानी कैदी         # पीएम ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे, 500 करोड़ राहत पैकेज का एेलान         # 9982 पर निफ्टी, सेंसेक्स में दिखी 45 अंकों की तेजी         # चीन के पीछे हटने पर ही डोकलाम से हटेगी भारत की सेना         # राष्ट्रपति ने नेहरू का जिक्र न किया तो भड़क गई कांग्रेस         दिल्ली कोर्ट ने शब्बीर शाह को 7 दिन की ED रिमांड पर भेजा          # श्रीलंका के खिलाफ दोहरे शतक से चूके शिखर         सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के लोग अपने विधायक से सबसे ज्यादा खुश-सर्वे रिपोर्ट        
News Description
12 जुलाई से 15 जुलाई तक मध्यम बारिश की जताई संभावना

 चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार के कृषि मौसम विज्ञान विभाग द्वारा जारी किए गए मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक हरियाणा में 12 जुलाई से 15 जुलाई तक मौसम परिवर्तनशील रहने तथा हल्की से मध्यम बारिश की संभावना जताई गई है। 
इस सम्बन्ध में विश्वविद्यालय प्रवक्ता ने बताया कि इस दौरान अधिकतम तापमान 35.0 से 38.0 डिग्री सेल्सियस के मध्य और न्यूनतम तापमान 25.0 से 28.0 डिग्री सेल्सियस के मध्य रहने की संभावना है। हवा में 60 से 80 प्रतिशत आद्रता रहने की सम्भावना है। इसके अलावा 6 से 14 किलोमीटर प्रति घण्टा के मध्य हवाएं चलने की संभावना है। 
कृषि मौसम विज्ञान विभाग ने सम्भावित मौसम के आधार पर किसानों को सलाह दी है कि वे धान की नर्सरी लगाना जारी रखें। धान में बकानी रोग से बचाव के लिए धान की रोपाई के 7 दिन पहले कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम/प्रतिवर्ग मीटर की दर से रेत में मिलाकर नर्सरी में एक साथ बिखेरें और इस बात का ध्यान रखें कि नर्सरी में उथला पानी हो। पौध की रोपाई अधिक गहरी न करें।
किसानों को सलाह दी गई है कि नरमा कपास में निराई-गुड़ाई कर खरपतवार निकालें तथा नमी संचित करें। नरमा कपास में वातावरण में ज्यादा नमी होने से सफेद मक्खी का प्रकोप हो सकता है। अगर सफेद मक्खी दिखाई दे तो मौसम साफ रहने पर ही नीम आधारित एक लीटर निम्बिसीडीन को 250 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रतिएकड़ छिडक़ाव करें।