#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
दहेज हत्या में सास-ससुर को दस साल कैद, 10 हजार जुर्माना

रोहतक,दहेज हत्या के मामले में फैसला सुनाते हुए अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सोनिका गोयल ने विवाहिता के सास-ससुर को दस-दस वर्ष कारावास व दस-दस हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना अदा न करने पर दोषियों को अतिरिक्त कारावास भुगतना पड़ेगा। इस मामलों में सबूतों के अभाव में मृतका के पति को कोर्ट ने बरी कर दिया था।
 
गांव चांदी निवासी रविंद्र ने 26 फरवरी 2016 को सदर थाना पुलिस को दी शिकायत में कहा था कि उसने बड़ी बेटी ज्योति की शादी जून 2015 में भाली निवासी अमित से की थी। अपनी हैसियत से ज्यादा दान-दहेज दिया था, लेकिन ससुराल पक्ष के लोग असंतुष्ट थे। आरोप है कि ससुरालिया बेटी को प्रताड़ित करने लगे। कई बार समझाने के बावजूद भी उत्पीड़न बंद नहीं हुआ तो बेटी ने खुदकुशी कर ली। पुलिस ने मृतका के पति, सास-ससुर ननंद पर मामला दर्ज किया था। पुलिस ने इस मामले में सास-ससुर व पति के खिलाफ चालान पेश किया था, जिसके बाद से मामला कोर्ट में विचाराधीन था। कोर्ट ने इस मामले में पति को बरी करते हुए सास-ससुर को दोषी करार दिया था। मंगलवार को कोर्ट ने सास-ससुर को दस-दस वर्ष कारावास व जुर्माना की सजा सुनाई।