News Description
सुर संगीत नाइट में गूंजे पुराने गीतों के तराने

करनाल सुर संगीत कला मंच द्वारा करनाल क्लब के तृप्ति हाल में गीत-संगीत के रंगारंग कार्यक्रम संगीत के तराने गीत नए पुराने कार्यक्रम का आयोजन किया गया। करनाल राइस मिलर्स एसोसिएशन के प्रधान विनोद गोयल ने दीप प्रज्वलित करके कार्यक्रम की शुरूआत की गई। दीप प्रज्वलित करने वालों में राजीव मल्होत्रा, संजय गोयल, विवेक गुप्ता, दिवान चंद मोंगा, राकेश मेहता, सतीश मिढ्डा व विनीत भाटिया भी शामिल रहे। गीतों की श्रृंखला में सबसे पहले धर्मेश गुजराती एवं दिव्या राय द्वारा सरस्वती वंदन किया गया। अनीता शर्मा द्वारा मौसम है आशिकाना गीत का प्रभावी प्रस्तुतिकरण हुआ। सोनिया चोपड़ा ने जाने क्यूं लोग मोहब्बत किया करते हैं। विनीत भाटिया ने आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे हर जुबान पर गाकर लोगों को झूमने व गाने पर मजबूर कर दिया। आरके भाटिया द्वारा दोस्त दोस्त ना रहा गीत गाया गया। गोपाल शर्मा द्वारा यही है तमन्ना और सतीश मिढ्डा द्वारा खिलते हैं गुल यहां खिल के बिखरने को गीतों का प्रस्तुतिकरण हुआ। गुरदर्शन ने ¨जदगी इक सफर है सुहाना गाया तो दर्शकों द्वारा खूब सराहा गया। कार्यक्रम की रूपरेखा लाड़ी मल्होत्रा, सुरेंद्र राणा, आरके भाटिया, निर्मल खट्टर तथा डीके खुराना द्वारा तैयार की गई थी। सुर संगीत कला मंच के प्रधान सतीश मिड्ढा तथा मुख्य सलाहाकार विनीत भाटिया ने बताया कि मंच करनाल में समाजसेवा के कार्य में भी उल्लेखनीय कार्य कर रहा है। इसके अंतर्गत स्कूल के बच्चों को मंच द्वारा समय-समय पर किताबें कापियां वस्त्र एवं अन्य जरूरतमंद चीजें उपलब्ध करवाई जाती हैं।