News Description
पैथ लैब को नोटिस जारी होने पर सड़कों पर उतरे लैब टेक्नीशियन

जींद : लैब टेक्नीशियनों ने प्रयोगशाला संबंधित नियमों में संशोधन किए जाने की मांग को लेकर बृहस्पतिवार को शहर में प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लैब टेक्नीशियनों ने मांग करते हुए कहा कि पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने पिछले दिनों आदेश जारी किए थे कि प्रदेश में उन तमाम पैथ लैब को बंद करवाया जाए, जो बिना पैथोलॉजिस्ट के चल रही हैं। सरकार को चाहिए कि इन नियमों में थोड़ा संशोधन किया जाए। बाद में लैब टेक्नीशियनों ने लघु सचिवालय पहुंच कर मांगों से संबंधित ज्ञापन डीसी कार्यालय में सौंपा।

रोष प्रदर्शन से पहले लैब टेक्नीशियन नेहरू पार्क में जिला प्रधान गुरुदेव की अध्यक्षता में एकत्रित हुए। उन्होंने कहा कि बिना पैथोलॉजिस्ट के चल रही पैथ लैब को बंद कराने को लेकर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने निर्देश दिए हैं। आदेशों पर तुरंत कार्रवाई करते हुए जींद जिले में स्वास्थ्य विभाग ने कार्रवाई भी शुरू कर दी है। जींद में 12 पैथ लैब को स्वास्थ्य विभाग द्वारा नोटिस दिए जा चुके हैं। पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने आदेशों में कहा है कि प्रदेश में उन तमाम पैथ लैब को बंद करवाया जाए, जो बिना पैथोलोजिस्ट के चल रही हैं। उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय के इस निर्णय से 50 हजार परिवार बेरोजगार हो जाएंगे और उनके समक्ष भूखे मरने की नौबत आ जाएगी। उन्होंने मांग की कि हरियाणा सरकार द्वारा दिए गए आदेशानुसार प्रयोगशाला टेक्नीशियन टैस्ट करेगा लेकिन मरीज को रिपोर्ट देने से पहले एमबीबीएस डॉक्टर से काउंटर साइन कराएगा। इन आदेशों को रद्द किया जाए। प्रयोगशाला में टेक्नीशियन द्वारा दिए गए काउंसिल एक्ट को तुरंत लागू किया जाए। क्लीनिकल एस्टी एक्ट में प्रयोगशाला टेक्नीशियन को हस्ताक्षर कर रिपोर्ट देने का प्रावधान किया जाए। उन्होंने कहा कि 16 जनवरी तक मांगों को पूरा नहीं किया गया तो कर्ण पार्क करनाल में एकत्रित होंगे और सीएम आवास तक शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करेंगे।