News Description
पिछले एक दशक में पहली बार जिले भिवानी का ¨लगानुपात 900 के पार

 भिवानी: बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान का असर जिले में साफतौर पर दिखाई देने लगा है। पिछले एक दशक में जिले का ¨लगानुपात पहली बार 913 तक पहुंच गया है। विभाग का मौजूदा वर्ष में ¨लगानुपात को 950 तक पहुंचाने का लक्ष्य है। इसी कड़ी में सिविल सर्जन डा. रणदीप पूनिया की अध्यक्षता में चिकित्सा अधिकारियों की एक बैठक चौ. बंसीलाल राजकीय सामान्य अस्पताल में हुई, जिसमें लक्ष्य को शीघ्र हासिल करने पर विस्तार से विचार-विमर्श किया गया। बैठक में समीक्षा करते हुए सिविल सर्जन डॉ. पूनिया ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में ¨लगानुपात की स्थिति सुधारने के लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू किया था, जिसके तहत कन्या भ्रूण हत्या पर अंकुश लगाने की अपील की गई थी। ¨लगानुपात सुधार के लिए किए गए कार्यों की बदौलत अभियान के बड़े ही रचनात्मक परिणाम सामने आए और भिवानी जिले में ¨लगानुपात पिछले एक दशक में पहली बार 900 से पार होकर 913 तक पहुंच गया है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2014 में यह ¨लगानुपात 834 था, वहीं वर्ष 2015 में यह अनुपात बढ़कर 870 पहुंचा। वर्ष 2016 में यह अनुपात 895 तथा वर्ष 2017 में यह ¨लगानुपात 913 तक पहुंच गया है। इस प्रकार से भिवानी जिले में पिछले एक दशक में पहली बार यह आंकड़ा 900 से पार होकर 913 तक पहुंच गया है। डॉ. पूनिया ने बताया कि हमारा लक्ष्य इस वर्ष ¨लगानुपात को 950 तक पहुंचाने का है। उप सिविल सर्जन डॉ. सुनील ने बताया कि 2014 से अब तक पीएनडीटी के तहत कुल 15 एफआइआर दर्ज कर 38 लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुए तथा वर्ष 2014 से अब तक एमटीपी के तहत 11 एफआइआर दर्ज कर 12 लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुए। इनमें से दो लोगों को सजा हो चुकी है।