News Description
लोग चलाएंगे सेल्फी विद कूड़ा अभियान, सफाई व्यवस्था की खोलेंगे पोल

बहादुरगढ़: नगर परिषद की ओर से सफाई व्यवस्था पर भले की एक करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हो लेकिन शहर की कई कालोनियों के हालत बद से बदतर है। यहा सफाई व्यवस्था नाम मात्र भी नहीं है। हम बात करे छोटूराम नगर की तो यहा पर चारों ओर गंदगी ही गंदगी है। पानी निकासी न होने से गंदा पानी गलियों में खड़ा रहता है और कोई भी आदमी यहा से गुजर नहीं सकता। यहा के लोगों ने सफाई व्यवस्था की पोल खोलने के लिए अब सेल्फी विद कूड़ा अभियान चलाने का निर्णय लिया है। हर रोज लोग कूड़े के साथ सेल्फी लेकर नगर परिषद की सफाई व्यवस्था की पोल खोलेंगे और नप के सोये हुए अधिकारियों को जगाने का काम करेगे ताकि वे कम से कम स्वच्छता सर्वेक्षण के नाम पर ही सही यहा की सफाई तो कर दें।

कागजों में ही हो रही सफाई

 
 

 

वार्ड-13 के पूर्व पार्षद वजीर सिंह राठी का कहना है कि नगर परिषद में इन दिनों सत्ता पक्ष काग्रेस व भाजपा कुछ अन्य पार्टियों के पार्षदों में महागठबंधन हो रहा है। इसी महागठबंधन की वजह से शहर में सफाई व्यवस्था का जनाजा निकला हुआ है। लोग गंदगी को साफ करने की माग करते है लेकिन सफाई सिर्फ कागजों में करके करोड़ों रुपये के वारे-न्यारे हो रहे है।

वार्ड 15 की पार्षद मोनिका के पति कपूर सिंह राठी का कहना है कि नगर परिषद सफाई के लिए महीने में लगभग एक करोड़ खर्च करती है। मगर शहर के हालातों में हम कैसे स्वच्छ सर्वेक्षण में अव्वल आने की उम्मीद कर सकते हैं। काश शहर में लगे विज्ञापनों की जगह सफाई करने पर नगर परिषद वाले पैसा लगाते तो अच्छा होता। कम से कम हम एक साफ और स्वच्छ वार्ड तो नगर परिषद में बना पाते। छोटूराम नगर में जाकर देखिये हालात बद से बदतर है। अब शहर के लोग सेल्फी विद कूड़ा अभियान चलाकर सोये हुए नगर परिषद के अधिकारियों को जगाने का काम करेगे।