News Description
एमबीबीएस के हस्ताक्षर अनिवार्य करने के आदेश का विरोध

अंबाला शहर : मेडिकल लेबोरेटरी की टेस्ट रिपोर्ट में एमबीबीएस के हस्ताक्षर अनिवार्य किए जाने के विरोध में लैब टेक्नोलॉजिस्ट लामबंद होने लगे हैं। बृहस्पतिवार को टेक्नॉलाजिस्ट एसोसिएशन के प्रधान राजेश कुमार के नेतृत्व में जलूस की शक्ल में डीसी कार्यालय पहुंचे। जहां टेक्नोलॉजिस्ट ने नए प्रावधानों का विरोध जताया। इसके बाद डीसी की गैर मौजूदगी में उनके पीए को अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा। प्रधान राजेश कुमार ने बताया कि सरकार के इन आदेशों से प्रदेश में करीब 50 हजार परिवारों के लिए रोजगार का संकट खड़ा हो जाएगा। नए प्रावधान के मुताबिक मरीज की टेस्ट रिपोर्ट देने से पहले एमबीबीएस डॉक्टर से काउंटर साइन कराने होंगे। जो उन्हें मान्य नहीं हैं। टेकनोलॉजिस्ट ने चेताया कि अगर सरकार ने यह फैसला वापस नहीं लिया तो फिर वह 16 जनवरी को करनाल में बस अड्डा के नजदीक पार्क में इक्ट्ठा होंगे। जिसके बाद मुख्यमंत्री आवास पर प्रदर्शन करेंगे। एसोसिएशन ने कहा कि इस प्रकार के प्रावधानों का विरोध करती है। जिसको संशोधित किया जाए। इसी प्रकार क्लीनिकल एस्टेबलिसमेंट एक्ट में संशोधन किया जाए। लेबोरेटरी टेक्नॉलाजिस्ट को हस्ताक्षर कर रिपोर्ट देने का प्रावधान किया जाए। इसी प्रकार केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नेशनल मेडिकल कमीशन ने बीएएमएस, बीएचएमएस की तरह क्रेस कोर्स करके आगे कार्य करने की अनुमति दी जाए। इस अवसर पर एसोसिएशन के उप प्रधान अनिल सैनी, विपिन गौतम, सुनील सैनी, व दलजीत ¨सह आदि मौजूद रहे।