News Description
गोडिजिटल को अपनाकर हाईटेक बने ग्रामीण : सत्य प्रकाश

 तावडू : वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम के तहत गांव कांगरका में गो-डिजिटल कैंप का आयोजन किया गया। ¨सडिकेट बैंक के सहयोग से कैंप का आयोजन हुआ। कैंप में अग्रणी बैंक जिला प्रबंधक व अन्य अधिकारियों ने ग्रामीणों को सरकारी व बैं¨कग योजनाओं की जानकारी दी।

अग्रणी बैंक जिला प्रबंधक सत्यप्रकाश ¨सह ने ग्रामीणों को जानकारी देते हुए कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों से संबंधित किसी प्रकार की शिकायत करने और डिजिटल लेन-देन के तौर-तरीकों सहित अन्य वित्तीय जानकारी देने के लिए वित्तीय साक्षरता केंद्रों की शुरुआत की है। इन केंद्रों द्वारा ग्रामीणों को बैंकों में खाता खोलने, बैंक से कर्ज लेने और उसे चुकाने के बारे में जरूरी सलाह, डिजिटल लेन-देन के अलावा कई अन्य जानकारियां दी जा रही है। उन्होंने कहा कि क्रिसिल फाउंडेशन के अंतर्गत ये केंद्र चल रहे हैं तथा आरबीआइ, ¨सडिकेट बैंक व नाबार्ड के अधिकारी इन केंद्रों की मॉनिट¨रग कर रहे हैं। वित्तीय साक्षरता का अर्थ है वित्त को समझने की क्षमता। इन केंद्रों के माध्यम से लोगों को वित्तीय रूप से साक्षर किया जा रहा है ताकि उन्हें बैंक कार्यों से संबंधित पूरी जानकारी हो। इसके साथ लोगों को केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही बचत व बीमा के अलावा वित्तीय योजनाओं की जानकारी मुहैया कराई जा रही है। उन्होंने ग्रामीण महिलाओं को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, जीवन ज्योति बीमा योजना, सुरक्षा बीमा योजना, स्टैंडअप इंडिया योजनाओं की विस्तारपूर्वक जानकारी दी।

वहीं ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान के निदेशक रवि चौधरी ने कहा कि 31 मार्च 2018 तक अपने खातों को आधार कार्ड से ¨लक करा लें। उन्होंने ग्रामीणों से बैंक की ओर से आने वाली झूठी फोन कॉल से सावधान रहने की बात भी कही