# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
क्लीनिकल कार्यों के लिए एमबीबीएस की अनिवार्यता पर जताई अपत्ति

 रेवाड़ी : जिले के विभिन्न लैब तकनीशियनों ने सरकार की नई नीति के खिलाफ रोष प्रकट करते हुए बृहस्पतिवार को प्रदर्शन किया। रेवाड़ी मेडिकल लैब तकनीशियन एसोसिएशन के तत्वावधान में लेबोरेट्री सहायकों ने उपायुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

एसोसिएशन के प्रधान मनोज यादव के नेतृत्व में सौंपे ज्ञापन में लैब तकनीशियनों का कहना था कि सभी लेबोरेट्री योग्य व अनुभवी तकनीकी सहायकों द्वारा सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थाओं से डिप्लोमा या डिग्री किए हुए हैं। ये केवल क्लीनिकल कार्य कर रहे हैं जो उन्हें कोर्स के दौरान प्रशिक्षण दिए गए थे। अब सरकार द्वारा इनके कार्यों को सत्यापन के नाम पर एमबीबीएस की अनिवार्यता करने जा रही है। इससे लेबोरेट्ररी सेवाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। सेवाएं महंगी हो जाएंगी और पारदर्शिता भी नहीं रहेगी। क्योंकि इसमें तकनीकी सहायकों की जिम्मेदारी रहेगी। सत्यापन एमबीबीएस करेगा और इसके लिए शुल्क लगने लगेगा जो कि आम आदमी की जेब पर बोझ बढ़ेगा।

इससे लैब जांच प्रक्रिया 25 से 30 फीसद महंगी हो जाएगी। महासचिव सुभाषचंद्र, मुकेश यादव, मनोज वर्मा, ना¨गद्र चौहान, रामौतार, सुभाष, प्रदीप, सुनील, सोनू, सतीश, धर्मवीर, अर¨वद, मनीष, पवन यादव, पवन खोला, विनोद यादव, अशोक यादव, नसीब, चेतन यादव, बिट्टू आदि लैब तकनीशियन शामिल थे।