News Description
कुवि प्रशासन ने लिखित में दिया आश्वासन, कर्मचारी माने

कुरुक्षेत्र : कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में पिछले सप्ताह से चल रहा कर्मचारियों को आंदोलन बुधवार को थम गया। विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से सभी मांगों को पूरा करने का लिखित आश्वासन देने के बाद कर्मचारियों ने आंदोलन को वापिस लेने का एलान कर दिया। बुधवार को कई घंटे चली कर्मचारियों और हाई पावर कमेटी की बैठक में कर्मचारियों की 13 मांगों में से सभी को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया गया। कर्मचारियों की सबसे बड़ी मांग एलटीसी 15 जनवरी तक देने और रेशों के अनुसार एरियर 31 मार्च तक देने पर सहमति बन गई। जिसके बाद कुलपति की ओर से मांगों को पूरा करने की अधिसूचना जारी होने के बाद कुवि कर्मचारी संघ के प्रधान रामकुमार गुर्जर ने आमसभा में आंदोलन को वापिस लेने की घोषणा की।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में पिछले सप्ताह बृहस्पतिवार को कर्मचारियों ने मांगों को लेकर आंदोलन शुरू किया था। जिसके बाद पूरा काम काज ठप्प कर दिया था। कर्मचारियों से कई बार कुवि प्रशासन की ओर से काम पर वापिस आने की अपील की गई, लेकिन इन दिनों में कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर अड़े रहे। हालांकि रविवार और सोमवार को कई दौर की बैठकों के बाद प्रशासन ने कर्मचारियों को मनाने का प्रयास किया था। मंगलवार रात को इसी सिलसिले में कुलपति की ओर से डीन की बैठक भी ली गई। बुधवार को बनी हाई पॉवर कमेटी ने सुबह लगभग साढ़े दस बजे कर्मचारियों से बातचीत शुरू की थी। जो लगभग एक बजे तक चली। जिसमें कई मुद्दों पर सहमति बन गई। कर्मचारियों की सबसे बड़ी मांगों में एलटीसी की राशि तुरंत जारी करना, एसएफएस कर्मियों को पदोन्नतियों का लाभ दिया जाना, एरियर की राशि देना, एआर और डीआर की पदोन्नतियां शामिल थे। कुवि प्रशासन ने सभी मांगों पर एक सप्ताह में कार्य शुरू करने का आश्वासन दिया। कुवि कर्मचारी संघ के प्रधान रामकुमार गुर्जर, महासचिव नीलकंठ, सहसचिव र¨वद्र तौमर ने कुवि कुलपति डॉ. कैलाश चंद्र शर्मा, कुलसचिव डॉ. प्रवीण सैनी का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि कर्मचारी इन दिनों में हुए कार्य की भरपाई ज्यादा समय काम करके करेंगे।

बाक्स

इससे पहले पूरा दिन की प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी

कुवि परिसर में चल रहे आंदोलन कर्मचारियों ने सुबह ही आंदोलन को शुरू कर दिया था। कर्मचारियों ने कुवि प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। सुबह कर्मचारी नेताओं को बैठक में बुलाने के बाद भी कर्मचारी पूरा दिन बाहर डटे रहे। इस मौके पर मनीष बालदा, अनिल लोहट, पूर्व प्रधान सुनील कक्कड़, पूर्व महासचिव रामलाल, संत कुमार, अशोक राणा, कृष्ण पांडे, यशपाल सैनी, नरेंद्र वर्मा, सतीश शर्मा, नरेश मग्गू आदि उपस्थित रहे।