News Description
टीम के एक सदस्य ने रिकॉर्ड खंगाला, दूसरे ने ली नागरिक प्रतिक्रिया

कुरुक्षेत्र शहर में दूसरे दिन भी आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय की टीम ने शहर के सार्वजनिक स्थलों का दौरा किया और लोगों की प्रतिक्रियाएं लीं। टीम सुबह 10 बजे से ही शहर के सार्वजनिक स्थलों पर सक्रिय हो गई और आने-जाने वाले लोगों को रोककर प्रतिक्रिया मांगी। टीम के एक सदस्य ने जहां नगर परिषद का रिकॉर्ड खंगाला, वहीं दूसरे सदस्य ने जीपीएस से मिलने वाली लोकेशन पर जाकर पड़ताल की। इस दौरान थानेसर नगर परिषद के अधिकारी पूरी तरह से चौकस रहे। जहां पर भी गंदगी मिलने की सूचना मिली नप अधिकारियों ने तुरंत वहां सफाई कराने के लिए कर्मचारियों को साथ लेकर पहुंच गए। आपके पीछे देख लो स्थिति स्पष्ट हो जाएगी..।

टीम सदस्य सुबह करीब साढ़े 11 बजे कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों की प्रतिक्रिया लेने के लिए पहुंची। टीम सदस्य ने यहां अलग-अलग विभागों के बाहर से शहर की स्वच्छता के प्रति जानकारी हासिल की। विद्यार्थियों से छह प्रश्न पूछे गए। इसी दौरान कुवि के एक विद्यार्थी संजीव कुमार से जब टीम ने पहला सवाल पूछा कि यहां सफाई व्यवस्था कैसी है तो विद्यार्थी ने टीम के सदस्य को अपने पीछे मुड़कर एक बार देखने को कहा। जहां कूड़ा फैला हुआ था। हालांकि फिर संजीव कुमार ने कहा कि कितना भी कर लो, लेकिन थोड़ी बहुत कसर तो रह ही जाती है।

 
 

 

300 लोगों की दर्ज करनी है प्रतिक्रिया

इस बार एक हजार नंबर केवल नागरिकों की प्रतिक्रिया के हैं। ऐसे में अच्छे रैंक के लिए नागरिक प्रतिक्रिया अहम स्थान रखती है। चार हजार नंबर में से शहर को एक हजार नंबर केवल नागरिक प्रतिक्रिया दिला सकती है। इसके तहत पहले ही दिन से टीम शहर के अलग-अलग सार्वजनिक स्थल पर जाकर लोगों की प्रतिक्रिया ले रही है। टीम को करीब 300 लोगों की प्रतिक्रियाएं दर्ज करनी हैं। इनमें से पहले दिन केवल 66 नागरिकों की प्रतिक्रिया दर्ज हो पाई थी। ऐसे में टीम को दो दिन से ज्यादा समय लग सकता है।

गंदगी से अटे रहने वाले स्थल दिखे साफ

पिछले दो दिन से शहर में स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर सफाई व्यवस्था चौकस है। शहर के मुख्य मार्गों पर तेजी से सफाई अभियान चलाया हुआ है। यहां तक कि गंदगी से अटे रहने वाले वो स्थल भी साफ दिखाई दिए जहां गंदगी के टीले लगे रहते थे। सफाई करने वाले नगर परिषद कर्मी सुबह से ही सतर्क नजर आए। डंपर सुबह से ही घर से कूड़ा एकत्रित करने के लिए शुरू हो गए।