News Description
आवारा कुत्तों के चलते लोगों की हुई दुश्मनी

गुरुग्राम: कालोनियों की गलियों में घूमने वाले आवारा कुत्तों के चलते कॉलोनी में लड़ाई-झगड़े भी होते हैं। थानों में इस साल करीब पंद्रह मामले पहुंचे जिनकी वजह कुत्ते थे। पीड़ित पक्ष ने आरोपी पक्ष के ऊपर कुत्तों को खाना-पानी देने का आरोप लगा शिकायत दर्ज कराई थी। हालांकि दस मामलों में सुलह हो गई। पांच मामले अभी भी लंबित हैं। सबसे अधिक मामले पॉश कॉलोनी सुशांत लोक में सामने आए। यहां पर रहने वाले चार बच्चों को गली में घूमने वाले आवारा कुत्तों ने काट लिया था। बच्चों के परिजनों ने एक कर्नल (रिटायर) पर कुत्तों को संरक्षण देने का आरोप लगा थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। इसी तरह इसी कॉलोनी में एक महिला पर आरोप लगा था कि व गली में घूमने वाले कुत्तों को रोटी व मांस देती है। मांस खाने के बाद कुत्ते खूंखार हो गए हैं। कुत्तों ने कालोनी के कई लोगों को काटा था। एक व्यक्ति ने महिला के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई थी। पॉश कालोनी डीएलएफ फेज वन में भी आवारा कुत्तों के चलते दो शिकायतें थाने तक पहुंची थी। कुत्ते ने एक बुजुर्ग और एक बच्चे को बुरी तरह से काटा था। दोनों को चार दिन तक अस्पताल में रहना पड़ा था। यहां रहने वाले एक परिवार पर कुत्तों को भोजन देकर अपनी कोठी की सुरक्षा कराने का आरोप लगा था। पुलिस को दी गई शिकायत में आरोपी लगाया था कि कोठी में रहने वाला परिवार गली में घूमने वाले कुत्तों को भोजन-पानी इसलिए देता है कि उसके मकान के आस-पास कोई आ नहीं सके। उल्टे कोठी में रहने वाली बुजुर्ग महिला ने पुलिस को शिकायत दी थी कि लोग गली में रहने वाले कुत्तों को मारते हैं। पुलिस ने शिकायत पर भी मामला दर्ज किया था। बाद में दोनों पक्षों में सुलह हो गई थी।