# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
शीतकालीन अवकाश पर असमंजस बढ़ा रहे अधिकारियों के पत्र

महेंद्रगढ़ : शिक्षा विभाग द्वारा शीतकालीन अवकाश बढ़ाए जाने वाले विभिन्न पत्रों से शिक्षकों में असमंजस की स्थिति बन गई है। यही कारण है कि इन छुट्टियों को खंड शिक्षा अधिकारी विभिन्न रूपों में ले रहे हैं। अभी तक शिक्षक भी ऊहापोह की स्थिति में है कि यह छुट्टियां शिक्षकों के लिए भी हैं या विद्यार्थियों के लिए ही हैं या फिर दोनों के लिए हैं। फेसबुक, वाट्स एप एवं शिक्षा विभाग की साइट पर अवकाश संबंधित पत्रों का मजाक बनकर रह गया है।

गौर हो कि शिक्षा विभाग हरियाणा द्वारा प्रदेश के सभी स्कूलों में 25 दिसंबर से 8 जनवरी तक शीतकालीन अवकाश घोषित किए गए थे। बाद में किसी ने ये अवकाश 26 जनवरी तक बढ़ाए जाने के पत्र एवं पुराने समाचारों की क¨टग लगाकर वाट्स एप पर छोड़ दिए। इस पर शिक्षामंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा ने स्पष्ट किया कि जारी पत्र फर्जी हैं और शिक्षा विभाग की साइट हैक करके इस प्रकार के पत्र जारी किए गए हैं। शिक्षा विभाग ने इसकी जांच की बात भी कही थी।

बढ़ती ठंड को देखते हुए सात जनवरी को शिक्षा विभाग ने अवकाश 12 जनवरी तक बढ़ा दिया। अगले ही दिन शिक्षा विभाग ने एक और पत्र जारी कर 9 से 12 तक की कक्षाएं 9 जनवरी से विधिवत रूप से लगाने की बात कही। इस पत्र में कहीं भी यह नहीं कहा गया है कि कक्षा 1 से 8 तक पढ़ाने वाले शिक्षक स्कूल में हाजिर रहेंगे या नहीं। शिक्षकों का कहना है कि अवकाश बढ़ा दिए गए हैं जिसका सीधा सादा अर्थ है कि शिक्षक स्कूल में नहीं जाएंगे। विद्यार्थी तो पहले ही स्कूल में नहीं आ रहे हैं।

उधर, इस पत्र से कई तरह की गफलत पैदा हो गई। गुरुग्राम के जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी ने इस पत्र को आगे प्रेषित करते हुए लिखा है कि कक्षा 1 से 8 तक विद्यार्थियों का अवकाश रहेगा, किंतु स्टाफ स्कूल में उपस्थित रहेगा तथा डाक संबंधित कार्य करेगा। इसमें स्पष्ट किया गया है कि शिक्षक डाक बनाने संबंधित कार्य 9 से 12 जनवरी तक लगातार करेंगे। कनीना बीईओ ने तो इसमें और संशोधन कर पत्र जारी किया है कि कक्षा 1 से 8 तक के अध्यापक विद्यालय में उपस्थिति दर्ज करवाने के साथ ही विद्यालय की साफ सफाई करेंगे। वे एचआरएमएस, एससी, बीसी, बीपीएल की लिस्ट बनाएंगे वहीं साफ सफाई का काम करेंगे। शिक्षकों का कहना है कि क्या अब अध्यापक साफ-सफाई भी करेंगे? विद्यार्थियों को साफ सफाई के काम में लगाया नहीं जा सकता तो आखिर साफ-सफाई शिक्षक करेंगे या माध्यमिक स्कूलों के मुख्य अध्यापक?