News Description
जहां 100 किलो कचरा, वहां खुद बनानी होगी खाद

पंचकूला : शहर के होटलों, रेस्टोरेंटों, स्कूल, कॉलेज, अस्पताल, नर्सिग होम, मार्केट एसोसिएशन एवं अन्य बड़ी इकाइयों को ठोस अपशिष्ठ प्रबंधन नियम 2016 के तहत निकलने वाले गीले कूड़े की खाद खुद बनानी होगी।

नगर निगम के कमिश्नर राजेश जोगपाल ने बुधवार को आदेश जारी करते हुए जिन बड़े संस्थानों से 100 किलो या उससे अधिक बायोडिग्रेडेबल वेस्ट प्रतिदिन निकलता है, उन्हें अब अपने संस्थान में खाद बनाने के लिए मशीन लगानी होगी, ताकि वहीं पर कचरे का निपटान किया जा सके। राजेश जोगपाल ने बताया कि शहर के स्कूल कॉलेजों में कंटीनें नियमित में संचालित होती हैं। कई बड़े अस्पताल नर्सिग होम में कंटीन बनी हुई है, जिनमें से रोजाना सौ किलो या उससे अधिक बायोडिग्रेडेबल कूड़ा निकलता है। इसी प्रकार शहर में स्थित कई सामाजिक धर्मशालाएं, मिड डे मील तैयार करने वाली संस्थाएं एवं कई हलवाई व मिष्ठान भंडार की फैक्ट्रियों से भी रोजाना इतना ही कूड़ा निकालती हैं। नगर निगम द्वारा इन संस्थानों से रीसाइकल होने वाले सूखा कूड़ा की सामग्री के संग्रहण हेतु वेस्ट उठाने वाले को अधिकृत कर दिया जाएगा। इन संस्थानों से नगर निगम द्वारा प्राधिकृत व्यक्ति वेस्ट उठाएंगे।

वहीं नगर निगम द्वारा गीला और सूखा कूड़ा कचरा अलग करने के लिए शहर के हर घर में दो डस्टबिन पहुंचाने की मुहिम बुधवार से शुरू कर दी है। वार्ड नंबर 9 के पार्षद सीबी गोयल ने सेक्टर 18 में लोगों के घरों में निशुल्क कूड़ादान बाटने की मुहिम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मनोनीत पार्षद अरुणा कुमारी, भाजपा महिला मंडल अध्यक्ष डिंपल शर्मा, रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन सेक्टर 18 के प्रधान, नगर निगम के सफाई सुपरवाइजर व कर्मचारी भी उपस्थित थे