News Description
छह हजार की आबादी पी रही मलिन पानी, तीन साल से अटकी फाइल

 कैथल : पहाड़पुर व जनेदपुर गांव के लोग पिछले कई सालों से गंदा पानी पीने को मजबूर हैं। दोनों गांव में पानी की सप्लाई पहाड़पुर गांव से होती है। पाइप लीकेज होने के कारण गंदा पानी घरों में सप्लाई हो रहा है। टूटी हुई पाइप लाइन को बदलवाने के लिए तीन साल पहले गांव की पंचायत ने 56 लाख का प्रस्ताव डालकर विभाग व सरकार को भेजा था, आज तक भी इसे मंजूरी नहीं मिली है। सप्लाई हो रहे दूषित पानी से गांव में टाइफाइड व काला पीलिया के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। पहाड़पुर में तो काला पीलिया से तीन लोगों की मौत भी हो चुकी है।ग्रामीणों ने बताया कि पाइन लाइन जगह-जगह से लीकेज है। इस कारण जब भी पानी की सप्लाई घरों को होती है तो गंदगी पानी के साथ लोगों के घर में चली जाती है। इस गंदा पानी पीने से लोग बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। पिछले कई सालों से लोग इसी पानी का सेवन कर रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि इस बारे में वे कई बार पब्लिक हेल्थ विभाग व जिला प्रशासन के अधिकारियों यहां तक की सीएम ¨वडो पर भी शिकायत दे चुके हैं, लेकिन इस समस्या की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। गांव के चारों तरफ पाइप लाइन टूटी हुई पड़ी है।

बाक्स-

दोनों गांव की आबादी छह हजार

पहाड़पुर-जनेदपुर गांव की एक पंचायत होती थी। अब दोनों गांव की पंचायत अलग-अलग हो गई है, लेकिन दोनों गांव में पानी की सप्लाई पहाड़पुर गांव से होती है। पहाड़पुर गांव में चार हजार तो जनेदपुर गांव में दो हजार की आबादी है। करीब छह हजार की आबादी वाले इन दोनों गांव में गंदा पानी सप्लाई हो रहा है। दोनों ही गांव में खुले में भी लोग शौच के लिए जा रहे हैं।