# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
खेतों में खड़ी फसलों को बर्बाद कर रहे लावारिस पशु

रोहतक: लावारिस पशुओं से किसान बेहाल हैं। किसानों के खेतों में खड़ी फसलों को लावारिस पशु नुकसान पहुंचा रहे हैं। किसानों ने करीब 15 दिन पहले लावारिस पशुओं को खुद पकड़कर प्रशासन को पशु सौंपे थे।

हालांकि लावारिस पशुओं के उग्र होते स्वभाव को देखते हुए अफसरों ने संबंधित पशुओं को फिर नहीं पकड़ा। फिलहाल खेतों में खड़ी फसलों को बड़े पैमाने पर लावारिस पशु नुकसान पहुंचा रहे हैं। किसानों की समस्या को सुनने के बजाय अफसरों की ओर से आश्वासन दिए जा रहे हैं कि लिखित में लिखकर दे दिया जाए कि सभी पशु पकड़ लिए हैं तो हम मदद को तैयार हैं। वहीं, किसानों ने इस प्रकरण में सीएम ¨वडो पर भी शिकायत कर दी है। चेतावनी दी कि जल्द ही राहत नहीं मिली तो बड़े पैमाने पर पंचायत करेंगे।

मकड़ौली खुर्द के किसान अमित और चमारिया गांव निवासी महेंद्र ¨सह ने बताया कि लगातार लावारिस पशुओं के कारण परेशानी हो रही है, लेकिन समाधान नहीं हो पा रहा है। इनका कहना है कि शहरी क्षेत्र के आसपास वाले गांवों में लावारिस पशुओं की तादाद बहुत ज्यादा है। सनसिटी, वनसिटी, गोहाना रोड आदि स्थानों पर करीब 300 तक पशु हैं। जबकि 60 से अधिक नीलगाय हैं। किसान महेंद्र कहते हैं कि खेतों में खड़ी फसलों की रखवाली करना भी मुसीबत बन गया है। रात के वक्त किसान खुद पहरा दे रहे हैं। लगातार बढ़ती समस्या को देखते हुए किसानों ने सीएम ¨वडो पर तीन दिन पहले ही शिकायत कर दी।

शिकायत के अगले दिन ही फोन आने शुरू हो गए कि शिकायत को वापस ले लो और लिखित में पत्र दें कि पशु पकड़ लिए गए हैं तो हर संभव मदद की जाएगी। हालांकि फोन किसका था, यह किसानों को भी पता नहीं है। किसानों ने चेतावनी दी कि जल्द ही राहत नहीं मिली तो आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।