# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
हुडा प्रशासक से मिले किसान, नहीं मिला संतोषजनक जवाब

बहादुरगढ़ :कोर्ट से बढ़ाए गए मुआवजे की माग को लेकर दिन-रात धरना दे रहे बालौर गाव के किसानों को हुडा प्रशासक की तरफ से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। वे सोमवार को चंडीगढ़ गए थे। प्रशासक की ओर से किसानों को उनकी माग सरकार तक पहुचाने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया गया। पिछले दिनों जब आटो मार्केट की जमीन पर काम शुरू हुआ और अधिगृहीत जमीन पर बोई गई फसल उजाड़ी गई, तो उससे किसानों में आक्रोश पनप गया था। किसानों ने मुआवजा दिए बिना आटो मार्केट का काम शुरू करने और इसके लिए फसल उजाड़ने की कार्रवाई को गलत ठहराया था। तभी से किसान धरना दे रहे है। इस बीच किसानों ने स्थानीय विधायक नरेश कौशिक के साथ चंडीगढ़ पहुचकर हुडा प्रशासक से मुलाकात की। उनके सामने अपनी समस्या रखी। प्रशासक की तरफ से किसानों को यह आश्वासन दिया गया कि उनकी माग सरकार तक पहुचा दी जाएगी। इससे किसान खफा है। यहा लौटकर किसानों ने बताया कि जब कोर्ट की ओर से साफ-साफ आदेश दिए जा चुके है तो इस स्थिति में हुडा प्रशासक की तरफ से मुआवजा वितरण की कार्यवाही आगे बढ़ाने की बजाय यह कहा जाना कि उनकी माग सरकार तक पहुचा दी जाएगी, अपने आप में हैरत की बात है। इसमें अब सरकार तक माग पहुचाने का क्या औचित्य है। अधिकारियों को यह बताना चाहिए कि कितनी जल्द मुआवजा मिल जाएगा। किसानो ने साफ कहा कि जब तक उनकी जमीनों का मुआवजा नहीं मिलता तब तक वे अधिगृहीत जमीन पर किसी तरह का निर्माण नही होने देंगे।