News Description
बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत जागरूकता शिविर का आयोजन किया

महिला एवं बाल विकास विभाग के तत्वाधान में आज नांगल चौधरी खंड के गांव धौलेडा में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत जागरूकता शिविर का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में नांगल चौधरी नगरपालिका की उप चेयरपर्सन नरगेस देवी मौजूद थी।
उप चेयरपर्सन ने बताया की आज के युग में बेटा व बेटी में कोई अन्तर नहीं है। इस मौके पर गांव धौलेडा वासियों को गांव के लिगांनुपात में सुधार करने के लिए किए गए प्रयासों के लिए बधाई दी।
नांगल चौधरी की महिला एवं बाल विकास परियोजना अधिकारी आशा शर्मा ने बताया कि जिला महेंद्रगढ़ में वर्ष 2017 में गांव धौलेडा  सबसे अधिक लिंगानुपात वाले गांवों में से एक है। इस कार्य में गांव के सरपंच व पूरी पंचायत, सभी आंगनवाडी वर्कर व हैल्पर, आशा वर्करस तथा समस्त ग्रामवासियों का योगदान रहा है।  
कार्यक्रम में महिला संरक्षण अधिकारी व बाल विवाह निषेध अधिकारी सरिता शर्मा ने उपस्थित महिलाओं को घरेलू हिंसा से सुरक्षा कानून के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अगर महिलाओं पर उनके परिवार में कोई भी उनके साथ अत्याचार करता है तो वे इसकी शिकायत महिला थाना स्थित उनके कार्यालय में कर सकती हैं। इसके अलावा उन्होंने बताया कि अगर वे अपने परिवारजनों के विरूद्व घरेलू हिसां से संरक्षण कानून के तहत केस डालती हैं तो सरकार उन्हें निशुल्क कानूनी सहायता उपलब्ध करवाएगी।
 उन्होंने बताया कि अगर आपके आसपास कोई अपने बच्चों का विवाह निर्धारित आयु से पहले करता है तो उसकी भी शिकायत वे उन्हें कर सकती है तथा उनके नाम को पूर्णत गोपनीय रखा जाएगा। 
कार्यक्रम में वन स्टॉप सेंटर एमिनिस्ट्रेटर वन्दना यादव ने बताया कि सरकार ने प्रत्येक जिले में घरेलू हिंसा से पीडि़त महिलाओं के लिए एक वन स्टॉप सेंटर चलाया है जिसमें वे आश्रय ले सकती हैं। 
कार्यक्रम में बाल संरक्षण अधिकारी सुषमा ने बच्चों के अधिकारों के बारे में जानकारी दी। उन्होनें बताया कि आपके परिवार के बच्चों के साथ अगर कोई छेड़छाड़ करता है या हिंसक वारदात करता है तो उसके विरूद्व पोक्सों एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करवाया जा सकता है।
इस मौके पर कार्यक्रम के मध्म में छोटी-छोटी लड़कियों ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर प्रस्तुतियां दी। कुमारी कनिष्का यादव ने भू्रण हत्या पर एक मोनो एक्ट प्रस्तुत किया। इसके अलावा आंगनवाडी वर्कर के समूह ने भू्रण हत्या पर एक लघु नाटिका का मंचन किया जिसमें कमलेश, ब्रहमा, पारूल, सीमा, सुशीला, लाजवन्ती, सविता व राजेश्वरी आदि ने नाटक का मंचन किया।