News Description
हरियाणा के बुद्धिजीवियों ने संभाली राजस्थान की कमान

कुरुक्षेत्र : हरियाणा सदैव से ही बुद्धिजीवियों की कर्मस्थली रहा है। यहां से अनेक आईपीएस एवं आईएएस अधिकारी देश की सेवाओं में अपना नेतृत्व प्रदान कर रहे हैं। हाल ही में हरियाणा में जन्मे निहाल चंद गोयल ने राजस्थान के मुख्य सचिव के रूप में अपनी कमान संभाली। इसके साथ ही डीजीपी ओपी गहलोत्र तथा राज्यपाल के एडीसी मेजर अभिमन्यु, एडीजीपी एमएल लाठर का संबंध भी हरियाणा से ही है। चारों महत्वपूर्ण पदों पर हरियाणा के बांकुरे एवं बुद्धिजीवी राजस्थान की कमान को संभाल रहे हैं। हरियाणावासियों के लिए यह गौरव की बात है कि हरियाणा में जन्मे निहालचंद गोयल रोहतक निवासी 1982 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। उन्होंने एमए अंग्रेजी, बीए ऑनर्स, एमबीए की परीक्षा पास कर प्रशासनिक सेवाओं में प्रवेश लिया और उनको राजस्थान कैडर प्राप्त हुआ। इसके साथ ही डीजीपी के रूप में कुरुक्षेत्र के ओपी गहलोत्रा ने वहां के पुलिस की जिम्मेवारी को संभाल रखा है। कुरुक्षेत्र के छोटे से गांव ¨हगाखेड़ी में 1959 में जन्मे गहलोत्रा 1985 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। उनको दो बार राष्ट्रपति पदक से बेहतर सेवाओं के लिए नवाजा जा चुका है। उन्होंने 30 नवंबर 2017 को राजस्थान के डीजीपी पद की जिम्मेवारी संभाली है। राजस्थान के राज्यपाल कल्याण ¨सह के एडीसी के रूप में कुरुक्षेत्र ही के निवासी मेजर अभिमन्यू भी एडीसी की जिम्मेवारी 7 जुलाई 2016 से संभाले हुए हैं। उल्लेखनीय है कि मेजर अभिमन्यू ने भी कुरुक्षेत्र से ही अपनी शिक्षा ग्रहण कर आर्मी में प्रवेश पाया है। इसके अतिरिक्त वे 2013 में बेस्ट जेंटलमैन ऑफिसर मेडल से भी पुरस्कृत हो चुके हैं। बैड़¨मटन और बॉस्केटबाल के खिलाड़ी के रूप में भी उन्होंने अनेक स्पर्धाओं में उपलब्धि हासिल की है। मेजर अभिमन्यू के पिता प्रो. हवा ¨सह कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पूर्व कुलसचिव के रूप में सेवानिवृत हो चुके हैं और उनकी मां प्रो. सुदेश प्रबंधन विभाग की निदेशक के रूप में अपनी सेवाएं दे रही हैं। इसके अतिरिक्त गांव कनीपला के मोहन लाल लाठर एडीजीपी राजस्थान के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। वे भी कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कॉमर्स विभाग के विद्यार्थी रहे हैं। हरियाणा के चारों अधिकारियों की उपलब्धि पर समस्त हरियाणावासियों को गर्व है।