News Description
शहर के सेक्टर 6 में सड़कों की मरम्मत में की जा रही खानापूर्ति

झज्जर : शहर के सेक्टर छह में वर्षों पूर्व बनाई गई सड़कों की हालत बदहाल हो चुकी हैं। कुछ दिन पूर्व हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की तरफ सड़कों की मरम्मत की गई थी। अब सड़कों की रोड़ियां गाड़ियों के पहियों से उड़ने लगी हैं। सेक्टर में रहने वाले लोग सड़कों की मरम्मत के नाम पर मात्र खानापूर्ति करने की बात कह रहे हैं। लोगों का कहना है कि हर स्तर पर व्यवस्था मनों को पीड़ा ही पहुंचा रही है। प्राधिकरण की तरफ से सेक्टर छह की सड़कों का सेक्टर काटे जाने के कुछ समय बाद निर्माण किया गया था। लेकिन देखरेख के अभाव में थोड़े समय के बाद ही सड़कों के परखचे उड़ गए थे।

---

गंदे पानी की निकासी की नहीं व्यवस्था : रेवाड़ी व गुड़गांव रोड के बीच करीब दस वर्ष पूर्व काटे गए सेक्टर में सड़क के साथ गंदे पानी की निकासी के लिए बनाए गए नाले पूरी तरह से टूट चुके हैं। सेक्टर में अब मकानों का निर्माण तेजी से होने लगा है। लेकिन नाले जर्जर होने के कारण पानी की निकासी नहीं हो पा रही है। लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हर तरफ लोगों को समस्याएं ही समस्याएं दिखाई दे रही हैं और सुविधाओं के नाम पर कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा है।

-------

लोगों की प्रतिक्रिया : सेक्टर छह में कोई भी ऐसा नाला नहीं है जो पूरी तरह से ठीक हो। सभी नाले टूटे पड़े हैं। बार-बार प्राधिकरण के अधिकारियों को शिकायत किए जाने के बाद भी समस्याओं का कोई समाधान नहीं हो पा रहा है। पिछले दिनों हुडा के अधिकारी जब सेक्टर का निरीक्षण करने के लिए आए थे तो उनके सामने भी समस्याएं रखी थी। लेकिन स्थिति में आज तक कोई सुधार नहीं हुआ है।

- कर्मबीर, निवासी सेक्टर, छह।

-------

पहले सेक्टर में मकान कम थे। अब काफी संख्या में यहां पर लोग अपने मकान बनाकर रहने लगे हैं। लेकिन यहां पर किसी प्रकार की भी सुविधाएं नहीं हैं। हर तरफ समस्याओं के अंबार लगे हुए हैं। केवल नाम का सेक्टर हैं, यहां पर सुविधाएं गांव जैसी भी नहीं हैं। हर काम में केवल खानापूर्ति की जा रही है। शिकायत करने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

- हरीचंद, निवासी वार्ड छह।

-------

ठंड की वजह से इन दिनों प्लांट बंद पड़े हैं, सड़कों की मरम्मत की जा चुकी है। अगर कहीं कोई परेशानी आएगी उसे ठीक कर दिया जाएगा। जब लोग सेक्टर में आकर बसते हैं और उस दौरान कोई भी समस्या आती है तो उसे ठीक कर दिया जाता है। अभी ड्रेनों की आवश्यकता नहीं है, इसके लिए कई बार चर्चाएं भी की जा चुकी हैं।