# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
शुगर मिल के सामने किसानों की हड़ताल शुरू

भूना : शुगर मिल चलाने की मांग को लेकर शुगर मिल चलाओ, किसान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा सोमवार को भूख हड़ताल शुरू की गई। धारसूल-कुलां जोन के किसान 24 घंटे की भूख हड़ताल पर बैठे। जिनमें कौर ¨सह धारसूल, बलवान नंबरदार, रामकिशन, जो¨गद्र ¨सह जमालपुर व गुरजंत ¨सह रत्ताथेह शामिल हुए। भूख हड़ताल की अध्यक्षता गुरजंत ¨सह ने की। मनदीप नथवान ने कहा कि क्षेत्र में गिरता जलस्तर ¨चता का विषय है, जिससे न केवल प्राकृति को नुकसान हो रहा है, किसानों के साथ-साथ आमजन के लिए भी ¨चता का विषय है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार चाहे तो क्षेत्र में रोजगार के नए आयाम स्थापित करने के साथ-साथ किसानों का आर्थिक उत्थान कर सकती है, जिसके लिए शुगर मिल चलाया जाने अत्यंत जरूरी है। पूर्व विधायक का. हरपाल ¨सह ने कहा कि नरमा व कपास की फसल घाटे का सौदा बनती जा रही है और किसानों को आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन सरकार मिल चलाए तो क्षेत्र में 50 हजार एकड़ में गन्ने की बिजाई हो सकती है। उनका संगठन किसानों के साथ मिलकर उनके हकों की लड़ाई लड़ेगा। एडवोकेट अजय झाझड़ा ने कहा कि पिछले 22 दिनों से क्षेत्र के किसान अपनी मांगों को लेकर शुगर मिल गेट के समक्ष धरना लगाए बैठे हैं, लेकिन अभी तक सरकार के किसी मंत्री, विधायक अथवा प्रशासनिक अधिकारी के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी है और किसी ने भी धरना स्थल पर पहुंचकर किसानों की सूध लेने की जहमत नहीं उठाई है। जिसके चलते किसानों में भारी रोष पाया जा रहा है। इस अवसर पर का. कृष्ण स्वरूप गोरखपुरया, का. रामस्वरूप ढाणी गोपाल, केवल ¨सह, सुखदेव ¨सह, तेलू राम, हिम्मत ¨सह, अमरपाल, रघुबीर ¨सह, राजबीर सोनी, मुंशी राम, सतबीर शर्मा, ईश्वर नहला, सत्यवान ¨सह, अमरपाल, अमरीक ¨सह, बलबीर ¨सह, नंदा राम, महेंद्र ¨सह, सुख¨वद्र ¨सह आदि उपस्थित थे।