News Description
सब डिवीजनों में दम तोड़ रहा स्वच्छता अभियान

, अंबाला : उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम (यूएचबीवीएन) की ओर से जहां अंबाला की सब डिवीजनों में बीते कई सालों से सफाई कर्मियों की नियुक्ति नहीं की जा रही है, वहीं बिजली निगम के अंबाला शहर और छावनी के एक्सईएन पार्ट टाइम सफाईकर्मी (पीटीएस) रखने में कोताही बरत रहे हैं। इसीलिए अंबाला छावनी के सब डिवीजन नंबर एक, बब्याल, केसरी, बराड़ा सब डिवीजन में एक भी पीटीएस न होने से स्वच्छ भारत अभियान दम तोड़ रहा है।

बता दें कि यूएचबीवीएन में अब प्रदेश सरकार की पॉलिसी के मुताबिक नियमित पीए, चौकीदार और स्वीपर की भर्ती नहीं की जाती। इसीलिए साफ-सफाई कार्य को विभाग एक्टिविटी आउटसोर्सिग के जरिए करा सकता है। इस कार्य को कराने के लिए एक्सईएन अधिकृत हैं और वह अपनी जरूरत के मुताबिक सफाई का कार्य करा सकते हैं, लेकिन इस कार्य में कोताही बरती जा रही है जिससे बिजली के उपभोक्ता बिजली निगम के कार्यालयों में बने हुए शौचालय का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। इसीलिए उपभोक्ताओं के साथ-साथ बिजली कर्मियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। अंबाला छावनी के सब डिविजन नंबर एक पर तो महिला स्टाफ कर्मियों ने सफाई न होने पर ताला जड़ दिया है।

पांच स्वीपर और चार चौकीदार की जरूरत

एक्सईएन कार्यालय अंबाला छावनी सर्कल के रिकार्ड के मुताबिक पांच स्वीपर और चार चौकीदार की जरूरत है। यह डिमांड यूएचबीवीएन हरियाणा को भेजी जाने वाली मासिक रिपोर्ट की जा रही है और करीब तीन साल हो चुके हैं। अभी तक न तो बिजली निगम जागा है और न ही अधिकारियों ने आउटसोर्सिग के जरिए कर्मियों का रखा है। इसीलिए एचएसइबी वर्कर्स यूनियन इस मामले को अपने स्तर पर उठाएगी। जल्द एक्सईएन से मिलकर यूनियन सफाई के मुद्दे पर मिलेगी और अल्टीमेटम भी दिया जाएगा।

एक्सईएन का शौचालय हो रहा है इस्तेमाल

सब डिवीजन नंबर एक के पास शौचालय है लेकिन गंदगी की वजह से न तो स्टाफ जाता है और न ही उसमें एसडीओ जा पाते हैं। एसडीओ जहां एक्सईएन कार्यालय का शौचालय बीते काफी समय से इस्तेमाल कर रहे हैं तो वहीं स्टाफ 33 केवी सब स्टेशन के साथ में खाली क्वार्टर और जगह पर जाने के लिए मजबूर हैं।

मेरे संज्ञान में मामला नहीं है

एक्टिविटी आउट सोर्सिग के जरिए एक्सईएन साफ-सफाई का कार्य कराने में अधिकृत हैं। अब यह कार्य बीते सालों में क्यों नहीं कराया जा रहा है यह मेरे संज्ञान में मामला नहीं है। जल्द ही अंबाला और पंचकूला के एक्सइएन से जवाब मांगा जाएगा।