News Description
सेक्टरों के 70 पार्क लावारिस, नगर परिषद नहीं दे रही ध्यान

 जींद : डेढ़ साल से सेक्टरों में बने पार्क लावारिस पड़े हैं। नगर परिषद यहां न तो खुद ही काम करा रही हैं और न ही सोसाइटी को सौंप रही है। ज्यादातर पार्क गंदगी से अटे हुए हैं और कहीं घास सूखी हुई है, तो कहीं रख-रखाव नहीं होने से बड़ी-बड़ी घास खड़ी है। कुछ पार्कों का स्थानीय निवासी अपने स्तर पर रख-रखाव कर रहे हैं।

जून 2016 में सेक्टर 10, 11 और 11 एक्सटेंशन को हुडा से नगर परिषद को सौंपा गया था। उस दौरान इन सेक्टरों में सड़क, सफाई, स्ट्रीट लाइट के साथ पार्कों की देखरेख का जिम्मा भी नगर परिषद को मिला था। इन सेक्टरों में करीब 70 पार्क हैं। नगर परिषद ने इन पार्कों में अभी तक कोई सुध नहीं ली है। पार्कों में कहीं दीवारें टूटी पड़ी हैं, तो कहीं झूले टूटे पड़े हैं। नगर परिषद इन सेक्टरों में काम नहीं कराने पीछे बजट नहीं होने का तर्क दे रही है। नगर परिषद अधिकारियों के अनुसार सेक्टरों में रख-रखाव व अन्य कामों के लिए हुडा की तरफ से बजट मिलना था, लेकिन उनकी तरफ से कोई बजट नहीं मिला है।

-------------------

नगर परिषद को सेक्टर स्थानांतरित होने से पहले हुडा पार्कों के रख-रखाव की जिम्मेदारी सोसाइटी को देती थी। इसके लिए सोसाइटी को 1.35 रुपये प्रति वर्ग गज हर महीने के हिसाब से दिए जाते थे। नगर परिषद के पास बजट नहीं होने के कारण पार्कों को सोसाइटी को सौंपने का काम अटका हुआ है।