News Description
पाला गिरा, शीत लहर का प्रकोप जारी

कनीना : क्षेत्र में रविवार की सुबह पाला पड़ा व सर्द हवाएं चली। फसल पर पाले की सफेद चादर जम गई। क्षेत्र में विगत दिनों से मौसम लगातार परिवर्तित हो रहा है। जनवरी के प्रथम 2 दिन जहां धुंध पड़ी कोहरा छाया रहा, वहीं अगले 2 दिन पाला पड़ा। फिर मौसम साफ हुआ तथा बाद में पाला पड़ने लग गया है।

किसान राजेंद्र ¨सह, सूबे ¨सह, कृष्ण कुमार, योगेश कुमार ,रोहित कुमार, अजीत कुमार आदि ने बताया कि रविवार की सुबह पाला गिरने से सरसों की फसल पर नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है। लगातार पाला पड़ने से नुकसान हो सकता है लेकिन दिन के समय सूर्य की चमक तेज रही। किसानों ने बताया कि दिन के समय सूर्य चमकने से फसल को कम नुकसान होगा। उधर कृषि वैज्ञानिक भी पाला पड़ने से नुकसान होने की संभावना जता रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि कनीना क्षेत्र में कड़ाके की ठंड पड़ रही है वहीं पाला जम रहा है। किसानों का कहना है कि हर वर्ष पाला पड़ने से फसल को नुकसान होता है। इस वक्त जब सरसों की फसल में फली आ गई है तथा गेहूं की फसल अभी छोटी है। किसानों ने बताया कि सुबह सवेरे छतों पर सरसों एवं गेहूं के पत्तों पर पाले की सफेद चादर नजर आ रही थी। सूर्य उदय होने के बाद तक वाले की सफेद चादर दिखाई देती रही। ठंड से जहां जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है वहीं ठंड के चलते किसान एवं आम जन परेशान हो गए हैं।

पूर्व सीपीएस अनीता यादव ने कहा कि क्षेत्र में पाला पड़ने से फसल को नुकसान हो रहा है। उन्होंने फसल में करीब 20 प्रतिशत नुकसान होने की संभावना जताई है और मांग की है कि सरकार को चाहिए किसानों को उचित मुआवजा दे